कल अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में सुनियोजित ढंग से किये गए ड्रामे पर जस्टिस काटजू ने फेसबुक पर   एक पोस्ट शेयर कर सभी AMU स्टूडेंट्स से इस ड्रामे को डिकोड करने और सतर्क रहने की गुज़ारिश की है, जस्टिस काटजू ने पोस्ट इंगिलश में शेयर की है जिसका हिंदी अनुवाद इस तरह से है :-

सभी AMU स्टूडेंट्स….
आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कुछ ख़ास राजनीतिक दल सांप्रदायिक घटनाओं को उकसाने की पूरी कोशिश करेगा। कल जो हुआ वह इसी एजेंडे का हिस्सा था। ये आपका कर्तव्य है कि इस तरह की हरकतों से उकसावे में नहीं आएं और इन बदमाशों को बिना किसी उकसावे और हिंसा के बेनक़ाब करें।

एएमयू दुनिया भर में प्रसिद्द उच्च शिक्षा का एक बड़ा प्रतिष्ठित केंद्र है। अमेरिका में, जहां मैं अक्सर जाता हूं, लगभग हर शहर में एक एएमयू एलुमनी एसोसिएशन है, और एएमयू एलुमनी एसोसिएशनों (शायद फिलाडेल्फिया में) का फेडरेशन भी है। एएमयू के पूर्व छात्रों ने विदेशों में इंजीनियर, डॉक्टर और वैज्ञानिक के रूप में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। मुझे स्वयं अटलांटा एएमयू एलुमनी एससेशन को संबोधित करने के लिए आमंत्रित किया गया था, जो मैंने किया था। मुझे फेडरेशन को संबोधित करने के लिए भी आमंत्रित किया गया था, लेकिन नहीं कर सका। इसलिए आपको AMU का झंडा ऊंचा रखना चाहिए।

इसलिए मैं आपसे अपील करता हूं कि आप इन भड़काऊ दलालों के जाल में न फंसे और आप को आतंकी आदि कहकर उकसाने के बावजूद सांप्रदायिक सद्भाव और शांति बनाए रखें।

To all AMU students
In view of the coming Lok Sabha elections a certain political party will do its best to incite communal incidents. What happened yesterday was part of this agenda.
It is ur duty not to get provoked and to expose these rascals without committing violence.
AMU is a great centre of higher learning with a worldwide reputation. In America, where I go often, in almost every city there is an AMU Alumni Association, and there is also a Federation of AMU Alumni Associations ( perhaps in Philadelphia ). AMU Alumni have excelled abroad as engineers, doctors and scientists. I myself was invited to address the Atlanta AMU Alumni Assciation, which I did. I was also invited to address the Federation, but could not. So you must keep the flag of AMU flying high.

I therefore appeal to you to not fall into the trap of these agent provocateurs and maintain communal harmony and peace despite provocations calling you terrorists etc