केरल में आई सदी की सबसे भयंकर बाढ़ में जिस शख्स ने अपनी जान पर खेलकर सैकड़ों लोगों की जान बचाई थी अब जब उसकी जान बचाने की बारी आई तो किसी ने उसकी मदद नहीं की।

इंडिया टाइम्स.कॉम की खबर के अनुसार जिनेश जेरोन ने केरल में आयी बाढ़ में जान पर खेल कर कई जानें बचाई थीं, जिनेश की बहादुरी के किस्से टीवी और अखबारों में खूब चर्चित हुए थे लेकिन जब घर से 12 किलोमीटर दूर जिनेश को एक ट्रक ने टक्कर मारी तो वह दर्द से चिल्लाता रहा लेकिन उसकी मदद करने के लिए कोई नहीं रुका।

जिनेश पुंथुरा इलाके में परिवार के साथ रहता था। 30 सितम्बर को जब जिनेश अपने दोस्त जगन के साथ हाईवे पर बाइक से जा रहे थे तो उनकी बाइक को पीछे से आ रहे एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी। घायल अवस्था में सड़क के किनारे पड़े जिनेश ने मदद के लिए कई लोगों से गुहार लगाई थी, लेकिन किसी ने उनकी आवाज नहीं सुनी। वो सड़क पर तड़पता रहा, जिनेश और उसका दोस्त जगन लोगों से मदद की गुहार लगाते रहे मगर किसी ने उनकी मदद नहीं की।

लगभग आधे घंटे बाद एम्बुलेंस आयी तो उसे अस्पताल ले जाया गया जहाँ उसने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया।

जिनेश की मौत की खबर सुनकर बाढ़ में उसके द्वारा बचाये गए लोग उसके घर में संवेदना प्रकट करने उमड़ पड़े हैं, जिनेश की माँ सेल्वी का कहना है कि जब चर्च ने मछुआरों से बचाव के काम में मदद की अपील की तो जिनेश सब कुछ छोड़कर चेंगन्नूर पहुँच गया था, उसने सौ के लगभग लोगों की जाने बचाई थी।

कांग्रेस सांसद शशि थरूर जिनेश के अंतिम संस्कार में शामिल हुए थे।