तमिलनाडु में फेसबुक पर बीफ करी का फोटो शेयर करने पर मुस्लिम युवक से मारपीट, हिंदूवादी संगठन के 4 लोग गिरफ्तार।

 

तमिलनाडु में एक मुस्लिम युवक को हिंदूवादी संगठन के लोगों ने सिर्फ इसलिए मार मार कर गंभीर रूप से घायल कर दिया कि उसने अपने फेसबुक अकाउंट पर बीफ डिश का फोटो शेयर किया था।

The News Minute की खबर के अनुसार तमिलनाडु के नागापट्टिनम ज़िले के पोरावाचेरी के एक मैकेनिकल इंजीनियर 24 वर्षीय मोहम्मद फैजान ने अपनी फेसबुक वाल पर गुरुवार 9 जुलाई को बीफ सालन (Curry) के फोटो शेयर करते हुए उसकी तारीफ में दो पोस्ट्स की थी जिसमें लिखा था कि ‘Aayiram thaan sollu, maatu curry maatu curry dhaan’, यानि “आप एक हजार बातें कह सकते हैं, लेकिन बीफ करी, बीफ करी ही है।”

मोहम्मद फैजान की फेसबुक पोस्ट.

फैज़ान की पोस्ट शेयर होते ही उसे फेसबुक पर कमेंट्स में धमकियाँ मिलने लगीं, धमकियाँ देने वालों ने कुछ देर बाद अपने कमेंट्स डिलीट कर दिया, गुरुवार रात फैजान के घर कुछ लोग आये और लोहे की छड़ों से उसकी पिटाई की और चाकू से उस पर वार किया, घायल फैजान को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जिला पुलिस अधीक्षक टीके राजसेकरन के आदेश पर, किलावल पुलिस ने मामला दर्ज किया और हिंदूवादी संगठन ‘हिंदू मक्कल कात्छी’ के चार कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया। अभियुक्तों की पहचान दिनेश कुमार, अगाथियान, गणेशकुमार और मोहनकुमार के रूप में की गई है, ये सभी युवक 20 वर्ष की आयु के लगभग हैं। पुलिस ने कई धाराओं के तहत मामले दर्ज किए हैं, जिनमें भारतीय दंड संहिता की हत्या का प्रयास भी शामिल है।

फैज़ान पर हुए हमले की खबर के बाद ट्वीटर पर # Beef4life, #WeLoveBeef और #BeefForLife टॉप ट्रेंड बन गए, क्योंकि सैकड़ों लोग विशेष रूप से तमिलनाडु के यूज़र्स ने बीफ खाने की स्वतंत्रता के समर्थन में ट्वीट करना शुरू कर दिये।

ट्वीटर पर #Beef4life, #WeLoveBeef और #BeefForLife टॉप ट्रेंड बन गए.

एक यूज़र پربھا @deepsealioness ने टवीट कर बीफ खाने की स्वतंत्र का समर्थन कुछ इस तरह से किया :

वहीँ मोहम्मद आसिफ खान ने अपने टवीट में तमिलनाडु के लोगों को फैज़ान को दिए समर्थन के लिए कुछ इस तरह से टवीट किया :

ह्यूमन राइट्स वॉच की एक रिपोर्ट के अनुसार चरमपंथी हिंदुत्व समूहों ने पिछले तीन वर्षों में कम से कम 44 लोगों की हत्या की है और इन चरमपंथियों को अक्सर कानून और सत्तारूढ़ दल के राजनेताओं से समर्थन मिलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close