अमरीका में रिपब्लिकन पार्टी से जुड़े और टेक्सास काउंटी उपाध्यक्ष पद पर आसीन डॉ. शाहिद शफी को सिर्फ मुस्लमान होने की वजह से उनकी ही पार्टी के ही विरोधी खेमें ने पद से हटाने के लिए प्रस्ताव देकर कर वोटिंग की थी, जो कि 139-49 मतों से खारिज हो गयी।

USA Today की खबर के अनुसार भारत में जन्मे और पाकिस्तान में पले-बढ़े और टेक्सास में काउंटी उपाध्यक्ष पद पर आसीन डॉ. शाहिद शफी को मुस्लिम होने तथा कथित तौर पर इस्लाम को अमेरिकी कानून से ऊपर रखने की वजह से पार्टी के काउंटी उपाध्यक्ष पद से हटाने के लिए उनकी ही पार्टी के एक गुट ने मतदान का प्रस्ताव किया था।

डॉ. शाहिद शफी को हटाने के पक्ष में शामिल लोगों ने कहा था कि वह टेरेंट काउंटी के रिपब्लिकनों का प्रतिनिधित्व नहीं करते, उनके विरोधियों का कहना था की डॉ. शफी एक इस्लामिक विचारधारा के नेता है, जो कि अमेरिकी संविधान के खिलाफ है।

अपने विरुद्ध प्रस्ताव गिर जाने पर डॉ. शहीद शफी खुश नज़र आये उनका कहना था कि “दुर्भाग्य से यह पहली बार नहीं हुआ कि लोगों या मेरे राजनीतिक विरोधियों ने मतदाताओं को प्रभावित करने के मकसद से मेरे खिलाफ मेरे धर्म का इस्तेमाल करने की कोशिश की है। मैं सोचता हूं कि यह आखिरी प्रयास भी नहीं होगा।”