देश में इन दिनों एक हाई प्रोफाइल ठग सुकेश चंद्रशेखर के केस के चर्चे  हैं, प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) द्वारा खुलासा किया गया ये मामला इसलिए भी सुर्ख़ियों में है कि इस केस में बॉलीवुड की दो अभिनेत्रियों जैकलीन फर्नांडीज़ और नोरा फतेह अली के भी नाम शामिल हैं।

ED के अनुसार सुकेश चंद्रशेखर ने जैकलीन फर्नांडिस को करीब 10 करोड़ रुपए के गिफ्ट दिए हैं, जिसमें 52 लाख रूपये का घोडा और 9 लाख रुपये की कीमत की दो पर्शियन बिल्लियां शामिल हैं। वहीँ अभिनेत्री नोरा फ़तेह अली को 1 करोड़ रूपये और एक महँगी BMW कार भी तोहफे में दी थी। इसी केस के चलते जैकलीन फर्नांडीज़ और सुकेश चंद्रशेखर की अंतरंग तस्वीरें भी वायरल हो गयीं हैं।

मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि वायरल हुई तस्वीर इसी साल अप्रैल और जून की है, जब दिल्ली की तिहाड़ जेल में कैद सुकेश अंतरिम जमानत लेकर जेल से बाहर आया था। हालांकि जैकलिन ने सुकेश के साथ अपने रिश्ते की बात को खारिज कर दिया था और इसके अलावा जैकलिन ने सुकेश के साथ किसी भी तरह की ठगी के मामले में शामिल होने के आरोपों से भी इंकार कर दिया था।

वहीँ इस मामले में नोरा फतेही की तरफ से भी स्टेटमेंट जारी कर दिया गया है, जिसमें साफ कहा गया है कि नोरा फतेही इस मनी लांड्रिंग केस में विक्टिम भी हैं और विटनेस भी हैं। इसके साथ ही कहा गया है कि नोरा इस केस से जुड़ी इन्वेस्टिगेशन में ऑफिसर्स का पूरा सहयोग कर रही हैं और वह किसी भी तरह के फ्रॉड का हिस्सा नहीं हैं। सुकेश चंद्रशेखर के साथ रिश्ते को लेकर नोरा फतेही की तरफ से कहा गया है कि उनका आरोपी के साथ कोई भी पर्सनल रिलेशनशिप नहीं है।

प्रवर्तन निदेशालय ने सुकेश चंद्रशेखर के ठिकानों से जिन 23 लक्जरी गाड़ियों को जब्त किया हैं जिसके 12 कारें उसकी पत्नी लीना पाल की कंपनी के नाम पर रजिस्टर्ड थीं। इन कारों में लिम्ब्रोगनी ,फरारी ,डिस्कवरी ,रेंजरोवर, मर्सिडीज, पोरसे जैसी महंगी कारें शामिल हैं।

कौन है सुकेश चंद्रशेखर ?

1989 में बैंगलोर (कर्नाटक) में पैदा हुए सुकेश चंद्रशेखर को बालाजी के नाम से भी जानते हैं, स्कूली शिक्षा बंगलौर के बिशप कॉटन बॉयज स्कूल से ली तथा मदुरै यूनिवर्सिटी से 12वीं पास की। बचपन से ही उसे करोड़पति बनने की सनक थी इसी के चलते सिर्फ 17 साल की उम्र में ही उसने खुद को एक बड़े नेता का रिश्तेदार बताकर लोगों को नौकरी दिलाने के नाम से 100 से ज्यादा लोगों से 75 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की थी।

इसके बाद सुकेश चंद्रशेखर 2017 में चुनाव आयोग को रिश्वत देने के मामले में धरा गया जिसमें उसने AIADMK को चुनावी चिन्ह दिलाने के लिए 50 करोड़ रुपये में डील की थी, जिसके चलते उसे गिरफ्तार कर तिहाड़ जेल में डाल दिया गया था।

सुकेश चंद्रशेखर ने 2010 मे एक मलयालम अभिनेत्री लीना मारिया पॉल से शादी की, लीना मारिया पॉल मलयालम फिल्म इंडस्ट्री का एक जाना माना नाम है, वो हिंदी समेत तेलुगु और तमिल फिल्मों में भी कुछ फिल्में कर चुकी हैं। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत तमिल और तेलुगु फिल्मों में छोटे मोटे रोल करके की थी। लीना मारिया पॉल को 5 सितम्बर 2021 को अपने पति सुकेश चंद्रशेखकर की रंगदारी में मदद करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया थ, लीना ने सुकेश की एक बिजनेसमैन की पत्नी को 200 करोड़ रुपये की चपत लगाने में मदद की थी।

बड़ा मामला तब सामने आया जब 7 अगस्त को दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (EOW) को रैनबैक्सी के मालिक शिविंदर सिंह की पत्नी अदिति एस सिंह ने शिकायत की जिसमें उल्लेख किया कि उन्हें जून 2020 में उनके मोबाइल फोन पर एक कॉल आया था और जिसमें फोन करने वाले ने खुद को कानून मंत्रालय में एक वरिष्ठ अधिकारी बताया था और साथ ही अपने पति के लिए जमानत हासिल करने में उनकी मदद करने का प्रस्ताव रखा था।

उन्होंने कहा कि शिकायत में यह उल्लेख किया गया था कि फोन करने वाले ने काम करवाने के लिए पैसे की मांग की और अदिति सिंह को पैसे देने के तौर-तरीकों से अवगत कराया।

अधिकारी ने कहा कि इस केस में जब जांच की गई तो ये पता लगा कि रोहिणी जेल में बंद सुकेश चंद्रशेखर इस अपराध के पीछे का मास्टर माइंड है। इसके बाद रोहिणी जेल मे छापेमारी की गई जहां से सुकेश के पास से 2 मोबाइल बरामद हुए और उसे भी गिरफ्तार किया गया। सुकेश ने पूछताछ में बताया की वो पिछ्ले तीन चार साल से तिहाड़ जेल में बंद है। जून 2020 से उसने खुद को कानून मंत्रालय में एक वरिष्ठ अधिकारी बताकर अदिति सिंह से 200 करोड़ रुपये 30 बार में वसूल किये हैं, ये वसूली उनके पति शिवेंद्र मोहन सिंह को केस में राहत देने के नाम पर हुई थी।

इसी केस जांच के दौरान 7 अगस्त 2021 को प्रदीप रमदानी नाम के शख्स को गिरफ्तार किया गया, जो अदिति से 1 करोड़ रुपए लेने आया था, प्रदीप ने पूछताछ मे बताया कि ये सब वो अपने भाई दीपक रमदानी के कहने पर कर रहा था। इसके बाद दीपक को पूछताछ के लिए बुलाया गया दीपक ने बताया कि वो सुकेश चंद्रशेखर के लिए दो साल से काम कर रहा है और सुकेश ने उसका कोड नेम रोहित रखा हुआ है, दीपक ने खुलासा किया की उसने अदिति सिंह से 30 मौकों पर अलग-अलग जगह पैसों की वसूली की है, इसके बाद दीपक को भी गिरफ्तार कर लिया गया।

तिहाड़ जेल प्रशासन भी सुकेश के इशारों पर नाचता था

बाद में गहन जांच में पता चला कि दीपक रामदनी सुकेश के कहने पर जिस कार का इस्तेमाल वसूली के पैसे के लेनदेन में कर रहा था वो Swift Car रोहिणी जेल के असिस्टेंट सुपरिटेंडेंट धर्मसिंह मीणा की थी, जिसके बाद धर्म सिंह मीणा को भी गिरफ्तार किया गया जिसने पूछताछ में खुलासा किया उसको इस काम के बदले 75 लाख रुपए कमीशन मिला था। धर्मसिंह मीणा के मोबाइल फोन की जांच से पता चला की वो और रोहिणी जेल का डिप्टी सुपरिटेंडेंट सुभाष बत्रा, सुकेश की पत्नी लीना पॉल को व्हाट्सएप पर कॉल करते थे, जिसके बाद सुभाष बत्रा को भी गिरफ्तारी कर लिया गया उसने बताया की पैसे की हर डिलीवरी में उसे 3 लाख रुपया मिलता था, बाकी पैसा जेल स्टाफ में बांट दिया जाता था।

पुलिस के मुताबिक जांच के दौरान ये पता चला कि आरोपी सुकेश अपनी पत्नी लीना पॉल, जेल अधिकारियों और अपने सहयोगियों के साथ मिलकर अपराध का एक बड़ा सिंडिकेट जेल के अंदर से चला रहा था। उस पर पहले के भी 32 मामले में अलग-अलग राज्यों में दर्ज हैं, इसलिए पुलिस ने सभी आरोपियों पर मकोका लगा दिया है। आर्थिक अपराध शाखा ने इस मामले में रोहिणी जेल के पांच अधिकारियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक पांचों ने तिहाड़ जेल के नियमों को ताक पर रखकर सुकेश को कई सुविधा मुहैया कराईं। सुकेश बदले में इन्हें हर महीने पद के हिसाब से 30 लाख,12 लाख और 6 लाख रुपये कमीशन का तोहफा देता था, पुलिस ने इन सभी अधिकारियों की संपत्ति को जब्त कर लिया है।

ED द्वारा इस हाई प्रोफाइल केस में आरोप पत्र अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश प्रवीण सिंह की अदालत में दाखिल किया गया। ED की चार्जशीट पर कोर्ट ने संज्ञान लेते हुए मामले की सुनवाई 13 दिसंबर की तारीख तय की है, तथा कोर्ट ने जाँच एजेंसी से सभी आरोपियों को चार्जशीट उपलब्ध कराने को भी कहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *