विवादित बयान देने के मामले में केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह का नाम कई बार उछला है, पिछले दिनों उन्होंने एक विवादित बयान दिया था कि “भारत के मुसलमान प्रभु राम के वंशज हैं. वे मुगलों के वंशज नहीं हैं. इसलिए वे राम मंदिर का विरोध न करें और जो राम मंदिर का विरोध कर रहे हैं, वे भी समर्थन में आ जाएं, वरना उनसे हिंदू नाराज हो जाएंगे. मुस्लिमों से नफरत करने लगेंगे और अगर ‘ये नफरत ज्वाला में बदल गई तो मुस्लिम सोचें फिर क्या होगा। ‘

Business Standard की खबर के अनुसार मंत्री गिरिराज सिंह के इस भड़काऊ बयान के चलते उनके खिलाफ मुजफ्फरपुर की अदालत में धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में केस दर्ज कराया है, शिकायत करने वाली सोशल एक्टिविस्ट तमन्ना हाशमी ने मुजफ्फरपुर की अदालत में दायर अपनी याचिका में कहा है कि गिरिराज सिंह के बयान से उनकी धर्मिक भावना आहत हुई है।

उनके ऊपर जिन धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है, उसमें आईपीसी 153, 295 और 504 है जो मूल रूप से धार्मिक भावनाओं को आहत करने से संबंधित है।

परिवादी तमन्ना हाशमी ने बताया कि हम ही नहीं सभी मुसलमान मोहम्मद साहब के वंशज हैं. केंद्रीय मंत्री ने हमें राम का वंशज कहकर धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाया है जिससे आहत होकर हमने परिवाद दायर किया है।

केस की सुनवाई 3 नवम्बर को होगी।