Live Hindustan और news 24 की खबर के अनुसार बुलंदशहर में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की गोली मारकर हत्या करने के कथित मुख्य आरोपी फौजी जीतू को नोएडा एसटीएफ की टीम ने शुक्रवार को जम्मू कश्मीर से गिरफ्तार कर लिया है।

आरोप है कि उसने ही इंस्पेक्टर की पिस्टल उठायी थी। उसके पास इंस्पेक्टर की पिस्टल होने और उसी के द्वारा इंस्पेक्टर को गोली मारे जाने का भी संदेह पुलिस को है। बवाल का 2.48 मिनट का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक युवक को इंस्पेक्टर की लाश के पास से कुछ उठाते हुए दिखाया गया है।

बाद में इस युवक की शिनाख्त महाव गांव के जीतू फौजी के रूप में होने का दावा किया गया था। उसके बारे में जानकारी करने पर पता चला था कि वो कारिगल में तैनात है और हिंसा के बाद ही वह शाम को निकल गया था और अगले ही दिन उसने अपनी ड्यूटी ज्वाइन कर ली थी।

वरिष्ठ अधिकारिक सूत्रों का कहना है कि शुक्रवार को कश्मीर में सेना ने जीतू फौजी को एसटीएफ और पुलिस की टीम के सुपुर्द कर दिया है और वह उसे लेकर बुलंदशहर आ रही है। इसके आने के बाद कुछ और अहम खुलासे होने की उम्मीद अधिकारियों को है।

पुलिस का मानना है कि इंस्पेक्टर से लूटी 0.32 बोर की निजी पिस्टल संभवतः जीतू फौजी के ही पास है। उसके आने के बाद यदि वह पिस्टल को बरामद कर लेते हैं तो यह बड़ी कामयाबी होगी।

बुलंदशहर हिंसा मामले में नामजद आरोपियों में से पांच और आरोपी पुलिस ने गिरफ्तार किए हैं। पुलिस ने चंद्र पुत्र लाल सिंह निवासी ग्राम महाव, रोहित पुत्र रामअवतार निवासी ग्राम बरौली, सोनू पुत्र सुखपाल निवासी ग्राम नयाबांस, कुलदीप पुत्र अतेश त्यागी निवासी ग्राम थल इनायतपुर और जितेन्द्र उर्फ लाला गुर्जर पुत्र जलील सिंह निवासी ग्राम चिंगरावठी को गिरफ्तार किया है।

जिसके बाद बवाल के मुकदमें में अभी तक नौ गिरफ्तारी हो चुकी हैं। जबकि वीडियो के आधार पर 22 और आरोपियों की शिनाख्त हो जाने के बाद अभी तक 49 आरोपियों की पहचान हो चुकी है। 40 अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीमें दबिशें दे रही हैं।