छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में मतदान हो चुका है और EVMs स्ट्रांग रूम में कथित रूप से सुरक्षित रख दी गयी हैं मगर छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश से दो चौंकाने वाली ख़बरें आयी हैं।


ANI के अनुसार छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में स्ट्रांग रूम के बाहर दो लोगों को लेपटॉप सहित गिरफ्तार किया गया है जो कि अपने आपको जियो का कर्मचारी बता रहे हैं,पुलिस के अनुसार उनके परिचय पत्रों की जाँच की जा रही है।

छत्तीसगढ़ में विधानसभा के लिए चुनाव दो चरण में हुआ था. 12 नवंबर को पहले चरण के चुनाव और 20 नवंबर को दूसरे चरण के चुनाव पूरे हुए। इसी के बाद सभी ईवीएम को जिला हेडक्वॉर्टर स्थित स्ट्रांगरूम में भेज दिया गया, 11 दिसंबर को वोटों की गिनती की जाएगी।

दूसरी खबर मध्य प्रदेश से आयी है जहाँ कि EVM हैक कर चुनाव परिणाम बदलने के लिए अपनी तकनीकी सेवाएं ऑफर करने वाले एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर को कांग्रेस प्रत्याशी रमेश दुबे की शिकायत पर पुलिस ने ग्वालियर रेलवे स्टेशन क्षेत्र से हिरासत में लिया है।

Times of India के अनुसार अपने आपको सॉफ्टवेयर इंजीनियर बताने वाले 30 वर्षीय युवक का युवक का नाम अभय जोशी है, भिंड विधानसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार रमेश दुबे ने बताया कि दिल्ली से किसी अजय सिंह ने फोन कर उन्हें सॉफ्टवेयर इंजीनियर अभय जोशी का नंबर देकर कहा कि वह ईवीएम के मामले में मदद कर सकता है।

इसके कुछ देर बाद ग्वालियर से जोशी का फोन आया और उसने कहा कि वह ईवीएम को हैक करके चुनाव परिणाम उनके पक्ष में करा सकता है और इसके लिए उसने प्रति ईवीएम ढाई लाख रुपये की मांग की थी।

रमेश दुबे इस पूरे मामले की जानकारी पुलिस को दे दी और युवक को ग्वालियर रेलवे स्टेशन पर बुलाकर खुद भी ग्वालियर पहुँच गए, जैसे ही अभय जोशी ने स्टेशन पर रमेश दुबे को पुलिस के साथ देखा तो वहां से भागने का प्रयास किया, लेकिन सफल नहीं हो सका, और गिरफ्तार कर लिया गया।

मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को चुनाव पूरे हुए हैं और 11 दिसंबर को वोटों की गिनती की जाएगी।