Times of India की एक खबर के अनुसार सरकार के एक मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र संघ में भारत के खिलाफ एक शिकायत दर्ज करने जा रहा है जिसमें कहा जायेगा कि भारत की वायु सेना ने उनके जंगलों में चीड़ के पेड़ों पर बमबारी कर ईको टेररिज़्म किया है, और दो परमाणु संपन्न देशों के बीच उन्माद पैदा किया है।

भारतीय लड़ाकू विमानों मंगलवार को उत्तरी पाकिस्तानी शहर बालाकोट के पास एक पहाड़ी वन क्षेत्र में बमबारी की जो कि कश्मीर के हिमालयी क्षेत्र में भारत की सीमा से लगभग 40 किमी (25 मील) दूर है। भारत सरकार ने कहा था कि इसने एक आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर को नष्ट कर दिया और सैकड़ों “आतंकवादियों” को मार दिया।

पाकिस्तान ने इस बात से इनकार किया कि इलाके में इस तरह के शिविर थे और स्थानीय लोगों ने कहा कि केवल एक बुजुर्ग ग्रामीण को चोट लगी थी।

जलवायु परिवर्तन मंत्री मलिक अमीन असलम ने कहा कि भारतीय जेट विमानों ने “फॉरेस्ट रिजर्व” पर बमबारी की, हमारी सरकार पर्यावरणीय प्रभाव का आकलन कर रही है, जिसकी शिकायत संयुक्त राष्ट्र और अन्य मंचों पर की जाएगी।

असलम ने रायटर से कहा, “वहां पर जो हुआ वह पर्यावरणीय आतंकवाद है। दर्जनों देवदार के पेड़ गिर गए।” “गंभीर पर्यावरणीय क्षति हुई है।” बम विस्फोट स्थल पर गए दो रायटर रिपोर्टर, जहां चार बड़े गड्ढे देखे जा सकते हैं, ने कहा कि धमाकों से 15 देवदार के पेड़ उखड़ गए। ग्रामीणों ने भारतीय दावों को खारिज कर दिया कि इस हवाई हमले में सैकड़ों आतंकवादी मारे गए थे।

संयुक्त राष्ट्र महासभा के संकल्प 47/37 के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि “पर्यावरण को नष्ट करना, सैन्य आवश्यकता से उचित नहीं है और जो मौजूदा अंतरराष्ट्रीय कानून के विपरीत है ।”

भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव लगातार जारी हैं, भारत सरकार ने आतंकवादी समूहों के साथ अपने कथित संबंधों पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने की कसम खाई है। इस्लामाबाद वर्तमान में अपनी अगली बैठक से भारत के विदेश मंत्री को एकजुट करने के लिए इस्लामिक सहयोग संगठन (OIC) पर दबाव भी डाल रहा है।

चित्र : TOI से साभार.