इन दिनों ब्रिटैन के हडरसफील्ड स्कूल में एक 15 वर्षीय सीरियन बच्चे जमाल के साथ स्कूल केम्पस में ही कुछ नाबालिग युवकों द्वारा की गयी मारपीट का मामला सुर्ख़ियों में है। साथ ही लोगों द्वारा इस घटना को सोशल मीडिया पर भी उठाया और शेयर किया जा रहा है, और इस घटन की निंदा की जा रही है।

इंडिपेंडेंट की खबर के अनुसार ये मामला 28 नवम्बर को प्रकाश में आया जब जमाल के साथ मारपीट का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल पाया गया, उस वीडियो में जमाल को गर्दन पकड़ कर ज़मीन पर घसीटते हुए दिखाया गया है, और उसके बाद उसके चेहरे पर पानी की बोतल से पानी फेंक कर मारा जा रहा है।

ये Video सोशल मीडिया पर वायरल होते ही ब्रिटैन के लोग सकते में रह गए, खबर उस वीडियो के साथ मीडिया में और न्यूज़ चैनल्स पर भी आ गयी, हंगामा हुआ और जाँच के आदेश हुए।

ब्रिटैन के लोग उस हेट क्राइम के खिलाफ एकजुट हुए और उस सीरियन बच्चे जमाल के लिए crowdfunding के ज़रिये £50,000 पाउंड्स इकठ्ठे कर दिए।

वेस्ट यॉर्कशायर पुलिस ने इस सम्बन्ध में 16 साल के एक नाबालिग को हिरासत में लिया है, नाम नहीं बताने की शर्त पर पुलिस का कहना है कि उसे जुवेनाइल कोर्ट में पेश किया जायेगा, साथ ही पुलिस ने आग्रह किया है कि लोग वो वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर ना करें।

ब्रिटैन में हेट क्राइम का ये पहला मामला नहीं है, सीरिया युद्ध की विभीषिका के बाद से लाखों लोग विस्थापित हुए हैं और शरणार्थी के रूप में कई देशों में शरण लिए हुए हैं, ब्रिटैन में विशेषकर दक्षिणपंथी राष्ट्रवादी संगठन इन शरणार्थियों के खिलाफ सोशल मीडिया पर आग उगलते रहते हैं, जिसका नतीजा कई बार ब्रिटैन में हेट क्राइम्स के रूप में देखने को मिला है।

ब्रिटैन में सीरिया सॉलिडेरिटी कैंपेन के सह संस्थापक अब्दुल अज़ीज़ अलमाशी का कहना है कि ब्रिटैन में जमाल पर हुआ ये हमला दक्षिणपंथी संगठनों द्वारा तैयार किये गए विषैले माहौल की वजह से ही हुआ है। उन्होंने इससे पहले हुई कई हेट क्राइम्स के आंकड़े इंडिपेंडेंट के सामने रखे।

ब्रिटैन ही नहीं यूरोप में कई जगह दक्षिणपंथी संगठनों ने अपने झूठे प्रोपगंडे और सोशल मीडिया के ज़रिये कमसिन बच्चों और युवाओं में नफरत का ज़हर भर दिया है, जमाल पर किये गए हमले के वीडियो को देखकर समझ सकते हैं कि ये बच्चे कितनी छोटी उम्र में इस ज़हर का शिकार बन गए हैं।

आज ही BBC ने खबर दी है कि ब्रिटैन में एक निओ नाज़ी संगठन Sonnenkrieg Division से जुड़े होने और आतंकी वारदात की आशंका के चलते तीन युवाओं को गिरफ्तार किया गया है, जिसमें 17 वर्षीय युवक को लंदन से, 21 वर्षीय को बाथ से और 18 वर्षीय युवक को पोर्ट्समाउथ से गिरफ्तार किया गया है।

दक्षिणपंथी ताक़तों के खिलाफ ब्रिटैन के लोगों और सरकार की प्रतिबद्धता से साफ़ ज़ाहिर है कि वहां विविधता में एकता और देश में शांति व सौहार्द सभी के लिए सर्वोपरि है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *