CAAऔर NRC के खिलाफ लाखों भारतीय देश के भीतर और बाहर अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं, वहीं रायगढ़ के अलीबाग के एक 29 वर्षीय IIT स्टूडेंट हर्षल केट ने शुक्रवार को स्विट्जरलैंड के बर्न शहर में स्विस नेशनल बैंक और फेडरल पैलेस के बाहर संसद भवन के सामने CAAऔर NRC के खिलाफ अपना अनोखा मूक विरोध प्रदर्शन किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उस टिप्पणी कि ‘दंगाइयों को उनके कपड़ों से पहचाना जा सकता है।’, के विरोध में हर्षल केट ने स्विट्ज़रलैंड की ठण्ड में अपने कपडे उतार कर हाथों में CAA-NRC विरोधी कैप्शंस के प्ले कार्ड के साथ विरोध दर्ज कराया।

The Hindu की खबर के अनुसार हर्षल केट जो कि IIT बॉम्बे के पूर्व शोधकर्ता और IIT दिल्ली के डिपार्टमेंट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज से अर्थशास्त्र के PhD प्रतियोगी हैं, CAA-NRC विरोधी प्ले कार्ड्स से लैस होकर स्विट्जरलैंड की एक छोटी रिसर्च यात्रा के दौरान इस नए नागरिकता कानून के बारे में जागरूकता बढ़ाने का फैसला किया।

उन्होंने कहा, “मेरे जैसे विदेशी नागरिक जो सीमित समय के लिए इस देश का दौरा कर रहे हैं, अपनी राय को सामने रखने के लिए यहाँ सम्मान दिया जाता है। इसलिए मैंने भारत में CAAऔर NRC और पुलिस क्रूरता के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराने के लिए स्विट्ज़रलैंड के फेडरल पैलेस और स्विस नेशनल बैंक जैसे प्रतिष्ठित मंच को अपने विरोध प्रदर्शन के लिए चुना। यह जगह आमतौर पर खाली है और ज्यादातर पर्यटकों को आकर्षित करती है।

हर्षल केट जिन्होंने कुरुल में राष्ट्रीय रसायन और उर्वरक स्कूल से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की और विश्वेश्वरैया राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, नागपुर से B Tech किया है और IIT बॉम्बे से M Tech किया है, कहते हैं कि वो RSS की राष्ट्रीयता की विचारधारा के साथ बड़े हुए। उन्होंने कहा, “मेरा मानना ​​था कि देश भक्ति ही सब कुछ है और पाकिस्तान घृणा के अलावा कुछ भी नहीं चाहता है। मगर बाद में मुझे ‘देशभक्ति’ और ‘अंधभक्ति’ में अंतर समझ आया।

हर्षल केट ने कहा कि उनकी मानसिकता 2016 में बदलना शुरू हुई जब उन्होंने स्विट्जरलैंड के एक शीतकालीन स्कूल में भाग लिया और एक पाकिस्तानी सहपाठी से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि छात्रों को अपने देश में एक शहर के सामने आने वाले शहरी मुद्दों पर एक असाइनमेंट सौंपने का काम सौंपा गया था। जब उन्होंने मुंबई को चुना, तो उनके पाकिस्तानी दोस्त ने कराची को चुना और उन्हें जल्द ही पता चला कि दोनों शहरों को समान चुनौतियों का सामना करना पड़ा। हर्षल ने कहा, “मुझे मतभेदों की तुलना में अधिक समानताएं मिलीं। समय के साथ, विभिन्न लोगों के साथ अधिक संपर्क के साथ, मैंने आतंकवाद से धर्म को अलग करना सीख लिया।”

उसी साल हर्षल केट केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय के साथ एक रिसर्च फेलो बन गए और उन्हें सूचना और संचार प्रौद्योगिकी बनाने का काम सौंपा गया। मोदी सरकार द्वारा की गई नोटबंदी के बाद, उन्हें ग्रामीण लोगों के लिए एक मॉड्यूल डिजाइन करने के लिए कहा गया जिससे उन्हें यह समझने में मदद मिले कि डिजिटल लेनदेन कैसे किया जाए।

“जब तक मैंने ज़मीनी हकीकत नहीं देखी थी तब तक इस मुझे मॉड्यूल का हिस्सा होने के लिए खुद पर काफी गर्व था। ग्रामीण लोगों को सरकार के डिजिटल इंडिया अभियान की बारीकियों को समझने की तुलना में दैनिक जीवन में अधिक चुनौतियों का सामना करना होता था। ग्रामीण क्षेत्रों में लोग गरीब और कुपोषित थे और अभावों में जी रहे थे, ये सब डिजिटल इंडिया के दावों से उलट था, हर्षल ने कहा,”जब तक मुझे जवाब नहीं मिला, मैंने अपनी विचारधाराओं पर सवाल उठाया।”

गांधी को श्रद्धांजलि :

हर्षल केट ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी पर अपनी नाराजगी व्यक्त करने के लिए अपनी कपडे उतार कर विरोध करने का फैसला किया है कि “दंगाइयों और हिंसक प्रदर्शनकारियों को उनके कपड़ों से पहचाना जा सकता है।” उन्होंने कहा, “मैंने विरोध का यह तरीका चुना, क्योंकि महात्मा गांधी ने कपड़े त्याग कर विरोध किया था। हालाँकि हम समय के साथ देखते हैं कि हम गांधी जी को भूल रहे हैं। नए नेतृत्व के लिए नाथूराम गोडसे ही नायक है। मैं अपनी तौर पर अपने राष्ट्र के पिता महात्मा गाँधी को श्रद्धांजलि देना चाहता था।”

हर्षल ने कहा कि उन्होंने भारत में छात्रों और शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए विरोध प्रदर्शन का फैसला किया जो पुलिस की चरम बर्बरता के शिकार हुए थे। उन्होंने कहा कि पुलिस ने जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि को वापस लेने का आह्वान करने वाले प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए दिल्ली की बर्फीली ठंड में वाटर कैनन का इस्तेमाल किया।

हर्षल ने कहा कि उनके विरोध के दौरान भी स्विट्ज़रलैंड का तापमान 5 डिग्री सेल्सियस था लेकिन विरोध के 25 मिनट बाद ही स्विस पुलिस ने वहां आकर हस्तक्षेप किया। “वे मेरे पास आए और मुझसे पहले कपड़े पहनने का अनुरोध किया। वे चिंतित थे कि कहीं मैं बीमार न पड़ जाऊं। उन स्विस पुलिसकर्मियों ने जोर देकर कहा कि पहले मैं अपने कपड़े पहनूं और फिर इस मुद्दे पर चर्चा कर लेंगे। बाद में उन पुलिसकर्मियों ने मुझे बहुत धैर्य से सुना। उनका आचरण सराहनीय था, उन्होंने कहा कि मैं वहां अपना विरोध प्रदर्शन जारी रख सकता हूँ, बशर्ते किसी को आपत्ति न हो, भारतीय पुलिस बल स्विस पुलिस से बहुत कुछ सीख सकती है।

हर्षल केट ने कहा, “यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह के नेतृत्व वाली सरकार अपनी वैचारिक दृष्टि के अनुरूप भारतीय संविधान को बदल रही है। सरकार बहुत ही सूक्ष्म तरीके से भारतीयों के बीच धर्म और भाषा के आधार पर विभाजन पैदा कर रही है। आज इस तरह से मुसलमानों के खिलाफ भेदभाव किया जा रहा है, ये साफ़ है कि कल यह ईसाई, आदिवासी, अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के खिलाफ भी होगा। ”

हर्षल केट ने कहा कि अभी तक संविधान में इस तरह के संकीर्ण विचारों के लिए कोई स्थान नहीं था। उन्होंने कहा, “यह हिंदी बेल्ट के ब्रेनवाश वोट बैंक को खुश करने के लिए सरकार द्वारा उठाया गया कदम है। एक प्रयोग के रूप में NRC असम में विफल रही है। आर्थिक रूप से इस पर अरबों डॉलर खर्च होंगे और नतीजा ज़ीरो निकलेगा। नाज़ी विचारधाराओं से प्रेरित डिटेंशन सेंटर्स स्थापित करने जैसी अमानवीय प्रथाएं अस्वीकार्य हैं और हमारे संवैधानिक और सांस्कृतिक लोकाचार के खिलाफ हैं।”

हर्षल जो जनवरी में दिल्ली वापस आएंगे, ने देश भर के छात्रों और विद्वानों से अपील की है कि वे अहिंसक तरीके से विरोध के अपने लोकतांत्रिक अधिकार का प्रयोग करें। उन्होंने कहा, “हिंसक होने पर विरोध अपना मूल्य खो देता है।”

हर्षल केट ने 1 जनवरी को जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के बाहर इसी तरह का विरोध प्रदर्शन करने की योजना बनाई है।

(फोटो : The Hindu से साभार)