दिल्ली चुनाव के लिए जारी भाजपा का हेट स्पीच से भरपूर अभियान गीत हिन्दू मतदाताओं को CAA विरोधी और मुस्लिम प्रोटेस्टर्स के खिलाफ उकसाता है।

स्पेशल स्टोरी वाया : Scroll

भाजपा द्वारा जारी ये वीडियो  CAA और NRC का विरोध कर रहे प्रदर्शनकरियों को ढोंगी बताते हुए इनका सम्बन्ध विदेशी आक्रमणकारियों के साथ जोड़ने की भी कोशिश भी करता है, जो ‘अखंड भारत’ की परिकल्पना के दुश्मन हैं।

2 फरवरी को भारतीय जनता पार्टी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए एक नया अभियान वीडियो जारी किया है। ये नया वीडियो उनके पहले वाले वीडियो के उस दावों की ही अगली कड़ी है जिसमें दावा किया गया था कि CAA (नागरिकता संशोधन अधिनियम) और NRC (नागरिकों के राष्ट्रीय रजिस्टर) का विरोध में भारत को खंडित करने का प्रयास है। भाजपा द्वारा जारी किया गया उनका पिछला वीडियो यह ऐलान करते हुए शुरू हुआ कि दिल्ली में विरोध प्रदर्शन करने वालों को बेदखल करने का वक़्त आ गया है।

2 फरवरी की देर रात, दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय के गेट के पास फायरिंग की गई। दिल्ली के इस हिस्से में चार दिनों में यह तीसरी फायरिंग की घटना थी, जो कि नागरिकता कानून में संशोधन के खिलाफ बड़े पैमाने पर शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन का केंद्र रहा है। 30 जनवरी को जामिया में गोलीबारी की गई, जिससे एक छात्र घायल हो गया। 1 फरवरी को शाहीन बाग के पास गोलियां चलीं जहाँ 50 दिनों से अधिक समय से महिला प्रदर्शनकारी विरोध प्रदर्शन कर रही हैं।

फायरिंग की इन घटनाओं से पहले केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने बीजेपी की रैली में भाग लेने वालों को देश के गद्दारों पर गोलियां चलाने के लिए ये कहकर उकसाया था: “देश के गद्दारों को, गोली मारो सालो को”।

जामिया में पहली फायरिंग के कुछ घंटों बाद, गृह मंत्री अमित शाह ने मतदाताओं से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिन्होंने पाकिस्तान पर “सर्जिकल स्ट्राइक” किया, और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जिसने ‘शाहीन बाग का समर्थन’ किया, के बीच चयन करने के लिए कहा।

भाजपा का नया अभियान वीडियो 4 मिनट और 28 सेकंड लंबा है और आसन्न संकट की आहट भी देता है, “देख तुझे ये क्या हो गया तुझे ओ मेरी दिली, ढोंगी धरने दे रहे हैं, उड़ा रहे हैं खिल्ली”, से शुरू हुआ ये अभियान गीत सीधा शाहीन बाग़ आंदोलनकारियों को देशद्रोही बताता है। इस वीडियो में आगे केजरीवाल की तस्वीर दिखाई गई, उसके बाद JNU के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार और उमर खालिद, हिजाब पहने प्रदर्शनकारियों और JNU छात्र संघ की वर्तमान अध्यक्ष आइशी घोष की भी तस्वीरें दिखाईं जाती हैं।

आगे वीडियो में प्रदर्शन करते लोगों और हिन्दुओं को विभाजित करते हुए दिखाए जाने वाले कट्स हैं, मुस्लिम टोपी और हिजाब पहने हुए प्रदर्शनकारी हैं तो दूसरी ओर हैं माथे पर राख मले पुरुष, पवित्र धागे पहने और माथे पर बिंदी लगाए महिलाएं हैं। वीडियो में मतदाताओं से अपील की जा रही है: “अब जाग तू,छेड़ राग तू, घर से निकल, बुझा हर आग तू।”

आगे वीडियो में एक जलती हुई बस की तस्वीर दिखाई जाती है जो कथित रूप से प्रदर्शनकारियों द्वारा जलाई गई थी, साथ ही गाना बजता है, हर द्रोही को पहचान ले, साथ ही “मुगलिया” शारजील इमाम के फोटो के अलावा, गाँधी परिवार को “फिरंगी” कहा गया है, भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद और फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप के फोटो भी इसी गाने के साथ में शामिल हैं।

इस वीडियो में स्मारकों को भी विभाजित कर दिखाया गया है, जामा मस्जिद के साथ शरजील इमाम का फोटो आता है तो हुनुमान मंदिर को एक ऐसी राजधानी के तौर पर दिखया गया है जिसकी घेराबंदी की हुई है, जबकि भावी मतदाता बहाई मंदिर से बाहर निकलते दिखाए गए हैं।

ये वीडियो यहीं खत्म नहीं होता है, इसके बाद इसमें गणतंत्र दिवस में मार्च करते हुए सैनिक, अंतिम ब्रिटिश वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन को घोड़ों पर बैठे आगे बढ़ते दिखाया जाता है। इसके बाद अखंड भारत का नक्शा दिखाया जाता है, जो अफगानिस्तान, पाकिस्तान और बांग्लादेश में खंडित बताया गया है, वो सभी हरे रंग में चिह्नित किये गए हैं। नागरिकता संशोधन अधिनियम में भी इन्ही तीनों देशों का ज़िक्र है जहाँ के गैर-मुस्लिम प्रवासियों को भारतीय नागरिकता की पात्रता दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close