भारत में सुलभ शिक्षा एक सपना है, इसके बाद उच्च शिक्षा के लिए कॉलेजेज में एड्मिशन और पढ़ाई की फीस के बोझ से माता पिता की कमर झुक जाती है, कई छात्र छात्राएं फीस न होने की वजह से आगे पढ़ाई तक नहीं कर पाते।

वहीँ एक खबर ब्रिटैन से आयी है जहाँ एक भारतीय अरबपति ने अपनी बेटी को स्कॉटलैंड के सेंट एंड्रू यूनिवर्सिटी के प्रथम वर्ष में पढ़ने के लिए भेजा तो उसके लिए न सिर्फ 12 लोगों का स्टाफ साथ भेजा बल्कि उसके लिए एक शानदार महल नुमा घर भी किराए पर लिया, जहाँ वो लेक्चर अटेंड करने के बाद आराम कर सके।

ब्रिटैन के प्रसिद्द अखबार SUN के अनुसार उस भारतीय अरबपति ने अपनी बेटी के कर्मचारियों के लिए जो विज्ञापन दिया वो कुछ इस तरह से था :

1 महिला हाउस मैड
2 इंटरनेशनल शेफ
3 तीन हाउस कीपर
4 एक हाउस मैनेजर
5 3 वर्दीधारी नौकर
6 शेफर (कार ड्राइवर)
7 माली
8 रसोइया

ये विज्ञापन सिल्वर स्वान रिक्रूटमेंट एजेंसी की मार्फ़त ब्रिटिश अख़बारों में प्रकाशित हुआ था, इसकी शर्त ये थी कि ये सब लोग अपने क्षेत्र के माहिर होना चाहिए।

ब्रिटैन में इस स्टूडेंट के शाही खर्चों के चर्चे ज़ोरों पर हैं, ब्रिटिश अखबार इस लड़की को ‘BRITAIN’S poshest ­student’ लिख रहे हैं, जो अपने साथ 12 कर्मचारियों का दल लेकर स्कॉटलैंड में पढाई कर रही है, और साथ ही किसी हॉस्टल या पीजी में न रहकर महल नुमा घर में रह रही है।

सबसे बड़ी बात ये है कि इस लड़की के लिए ये स्टाफ पूरे चार साल के लिए चाहिए, जब तक उसकी पढ़ाई पूरी न हो जाए।

इस स्टाफ का काम उस अरबपति की स्टूडेंट बेटी के लिए कपडे धोने, महल नुमा घर की साफ़ सफाई करने, उसकी पसंद का खाना बनाने, जूते पोलिश करने, यूनिवर्सिटी से घर और घर से यूनिवर्सिटी तक आराम से ले जाने के साथ घुमाने फिराने और उसके आराम का हर तरह से ख्याल रखने की ज़िम्मेदारी होगी।

भारतीय पिता के अनुरोध पर ब्रिटिश अख़बारों ने उसका और उसकी बेटी का नाम गुप्त रखा है।