इडियट बॉक्स (टीबी) के बाहर की दुनिया में बहुत कुछ ऐसा होता रहता है, जो हम तक नहीं पहुँच पाता और ना ही दिन रात हिन्दू-मुस्लिम, मंदिर-मस्जिद, मोदी-राहुल, मायावती-केजरीवाल करते टीबी वालों को इससे मतलब होता है।

टीबी वालों की दुनिया से बाहर से एक शानदार खबर गूँज रही है वो ये कि BBC ने 2018 की 100 प्रेरणादायक तथा प्रभावशाली महिलाओं की सूची जारी की है, जिन्होंने दुनिया बदली है, और जिनके सार्थक योगदान से आज भी समाज, देश व दुनिया को प्रेरणा मिल रही है, रचनात्मक बदलाव आ रहे हैं, इस सूची में अरब देशों सहित कई मुस्लिम महिलाओं ने अपनी मौजूदगी दर्ज कराई है|

इनमें कई तो वैज्ञानिक हैं, अर्थ शास्त्री हैं, बुद्धिजीवी हैं, सोशल एक्टिविस्ट्स हैं, सियासत से जुडी हैं, चिकित्सक, और बिजनेस वुमन आदि हैं। सबसे अहम् बात ये है कि इस सूची में 9 अरब महिलाओं के नाम हैं।

BBC ने मैग्जीन ने विभिन्न क्षेत्रों के 10 – 10 विशेषज्ञों को उन 10 – 10 महिलाओं का नाम देने को कहा था जिन्होंने उन्हें सबसे ज्यादा प्रभावित किया हो। इन 100 प्रभावशाली महिलाओं के नामों को पाठकों के वोट के आधार पर सूचीबद्ध किया गया।

मुस्लिम महिलाओं की बात की जाये तो सबसे बड़ी बात या है कि इस सूची में 20 मुस्लिम व अरब देशों की दो दर्जन के लगभग मुस्लिम महिलाओं ने भी अपनी प्रभावशाली मौजूदगी दर्ज कराई है, इन देशों में विशेषकर बहरीन, यमन, किर्गिस्तान, उज़्बेकिस्तान, सऊदी अरब, इजिप्ट, ईरान, चाड, अज़रबैजान, इंडोनेशिया, ईराक़, बांग्लादेश, सीरिया, बांग्लादेश, पाकिस्तान, सेनेगल, मलेशिया, सोमाली लैंड, नाइजीरिया और अफगानिस्तान की मुस्लिम महिलाएं हैं।

इन मुस्लिम महिलाओं में कुछ नाम उनके देशों सहित इस प्रकार हैं :-

इसरा-अल-शफेई (बहरीन), निमको अली (सोमाली लैंड),बुशरा याह्या अल-मुतवक्किल (यमन), अलीना अनिसिमोवा, 19 वर्ष (किर्गिस्तान) इनका सूची में आठवां नंबर है, ये प्रोग्रामर हैं और ये अपने देश के किरगिज़ गर्ल्स स्पेस स्कूल का प्रतिनिधित्व करती हैं, लीला बेलयलवा (उज़्बेकिस्तान), रानीन बुखारी और हयात सिंदी (सऊदी अरब), शरूक अल-अत्तार और राघदा इज़्ज़ेलडीन (इजिप्ट).

Hindou Oumarou Ibrahim, an environmentalist and activist.

इनके साथ और हैं मित्रा फ़रज़ंदेह, मारल याज़ारलू-पेट्रिक और शपारक सहजारीज़ादेह (ईरान), हिन्दौऊ ओमारु इब्राहिम (चाड), रह्यान जमलोवा (अज़रबैजान) ये केवल 16 वर्ष की हैं और Rainergy की CEO, इंटरप्रेन्योर फाउंडर हैं|

Reyhan Jamalova, 16 – entrepreneur, founder, and CEO of Rainergy.

सक्दियाह मारूफ (इंडोनेशिया), अमीना जे मोहम्मद (नाइजीरिया) की हैं और सूची में 60 वे नंबर पर हैं, ये संयुक्त राष्ट्र संघ की डिप्टी जनरल सेक्रेटरी होने के साथ साथ नाइजीरिया की पर्यावरण मंत्री रहने के अलावा UN के सेक्रेटरी जनरल बान की मून की विशेष सलाहकार भी रह चुकी हैं|

Yanar Mohammed is a prominent Iraqi Social activist.

यानार मोहम्मद (ईराक़), नुजीन मुस्तुफा और दीमा नशावी (सीरिया) ये दिव्यांग शरणार्थियों के लिए काम करती हैं, फात्मा समौरा (सेनेगल), सीमा सरकार (बांग्लादेश), नेंसी शुशैदाह बिनती शमशुद्दीन (मलेशिया), नरगिस तैराकी और सफिया वज़ीर (अफगानिस्तान).

Hayat Sindi is a medical scientist who was the first Saudi Muslim woman in the Gulf to get a PhD in biotechnology.

इनमें से कई नाम मीडिया में आते भी रहते हैं जैसे हयात सिंदी जो कि सऊदी अरब की एक मेडिकल साइंटिस्ट हैं, और पहली गल्फ की सऊदी महिला हैं जिन्होंने बायोटेक्नोलॉजी में PhD की है, और साथ ही सऊदी अरब की कंसल्टेटिव असेंबली की पहली महिला सदस्य भी हैं।

सूची में 20 वे नंबर पर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की बेटी चेल्सिया क्लिंटन का भी नाम है। उन्हें क्लिंटन फाउंडेशन के लिए उल्लेखनीय कार्य करने के लिए नामित किया गया है।

पाकिस्तान की एक हिंदू महिला सांसद एवं मानवाधिकार कार्यकर्ता और दलित समुदाय से ताल्लुक रखने वाली पहली महिला सांसद कृष्णा कुमारी कोहली (40) का स्थान बीबीसी की 100 प्रभावशाली महिलाओं की सूची में 48वां है।

Pakistan’s first Hindu Dalit woman & Senator, Krishna Kolhi.

इधर Forbes के अनुसार 2005 के मुक़ाबले ताक़तवर महिला मुस्लिम लीडर्स की तादाद 2016 तक दोगुनी हो गयी है ! इससे पहले 2016 की Forbes की 100 ताक़तवर औरतों में भी 6 मुस्लिम महिलाओं ने अपनी शानदार मोजुदगी दर्ज कराई थी, जिनके नाम इस तरह से हैं :-

1. 36 वां नंबर बांग्लादेश की प्रधान मंत्री शेख हसीना वाजेद का था, इसे पिछली बार उनकी रैंकिंग 59 वीं थी !

2. 43 वे नंबर पर थीं UAE की सहिष्णुता मंत्रालय की पहली महिला राज्य मंत्री (Minster of State for Tolerance) शेखा लुबना अल क़सीमी !

3. 65 वे नंबर पर थीं सऊदी अरब की बिजनेस वुमन लुबना एस ओलायन, लुबना सऊदी अरब स्थित ओलायन ग्रुप की चीफ हैं, टाइम पत्रिका ने भी इन्हे 2005 में दुनिय की ताक़तवर मुस्लिम औरतों में शामिल किया था !

4. 91 नंबर पर थीं दुबई की बिजनेस वुमन और Easa Saled Al Gurg Group की मैनेजिंग डायरेक्टर रज़ा ईसा अल गुर्ग, वो अरब महिलाओं की आत्म निर्भरता और सशक्तिकरण के लिए जानी जाती हैं, पिछले साल उनकी रैंक 97 वीं थी !

5. 96 नंबर पर थीं मॉरीशस की पहली मुस्लिम महिला प्रधान मंत्री और विश्व विख्यात साइंटिस्ट अमीना गरीब फाकिम !

6. 37 वे नंबर पर थीं इंडोनेशिया की सिरि मुलयानी इंद्रावती जो कि 1 जून 2010 से 27 जुलाई 2016 तक वर्ल्ड बैंक की मैनेजिंग डायरेक्टर रह चुकी हैं, और इसके साथ साथ उन्होंने इंडोनेशिया में फाइनेंस मिनिस्टर भी रही हैं !

चाहे फोर्ब्स मैगज़ीन कई हो, टाइम्स मैगज़ीन कई हो, या BBC की 100 प्रतिभाशाली महिलाएं हों, ये सब सार्थक महिला सशक्तिकरण का शानदार प्रतीक हैं, और सबसे बड़ी बेसिक बात ये है कि तालीम ही वो पहली सीढ़ी है वो पहला क़दम जिसने इन सभी को इस शीर्ष पर पहुँचाया है, उम्मीद करता हूँ कि इन मेगज़ीन्स, और सूचियों में आने वाले वक़्त में और भी बहुत सारी मुस्लिम बहनों, बेटियों के नाम दर्ज हों, इनका प्रतिशत बढ़कर अस्सी नव्वे प्रतिशत तक पहुँच जाए, और आने वाले वक़्त में हमारे मुल्क की बेटियां भी कभी अपने नाम दर्ज कराकर समाज, देश और दुनिया में नाम रोशन करें, इन सब मुस्लिम औरतों को इस शानदार जगह तक पहुँचने के लिए किये गए उनके संघर्ष और जुझारू जज़्बे के लिए दिल से सलाम।