हालाँकि ये दंपत्ति कभी भी अनस या उसके परिवार से नहीं मिले थे, मगर इस दंपति को गरीबी में पले बढे और अभावों के बावजूद उनके राज्य केरल और देश के लिए हासिल की गई अनस की उपलब्धियों पर गर्व था।

THE NEWS MINUTE की खबर के अनुसार 2018 में कोल्लम जिले के नीलमेल से 25 वर्षीय ओलंपिक धावक मोहम्मद अनस याहिया को एशियाई खेलों में तीन सिल्वर मेडल्स लाने पर पुरस्कार स्वरुप उनके गांव की पंचायत ने अनस को एक दोपहिया वाहन उपहार में दिया था। लेकिन अनस की मां इस तोहफे को लेकर उत्साहित नहीं थीं।

वो दुपहिया वाहन उनके बेटे के लिए किसी काम का नहीं था, क्योंकि उनके घर तक कोई सड़क नहीं थी। मीडिया रिपोर्टों के बाद पंचायत ने अर्जुन पुरस्कार विजेता अनस को दुपहिया वाहन के बदले नकद पुरस्कार देने का फैसला किया।

इन ख़बरों के मीडिया में आने के बाद शशिधरन नायर का ध्यान इस तरफ गया, शशिधरन नायर निलामेल में एक आयुर्वेद की दूकान चलाते हैं, उनकी पत्नी विनीता कुमारी उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में शिक्षिका हैं। हालाँकि वे अनस या उसके परिवार से कभी नहीं मिले थे, उन्हें उस युवक की उपलब्धियों पर गर्व था और उसकी आर्थिक स्थिति के बारे में भी जानते थे, तब इस दंपति ने अनस को खुद का घर बनाने के लिए 5 सेंट जमीन (5 Cent = 2178 Square Feet) देने का फैसला किया।

शशिधरन नायर कहते हैं कि “हमने उन्हें दो साल पहले जमीन की पेशकश की थी, लेकिन उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने की वजह से घर बनाने में असमर्थ थे। अब एक मीडिया संगठन ‘मध्यमा’ और फिल्म अभिनेता संगठन ‘AMMA’ ने अनस की मदद करने की घोषणा की है ताकि वो अपना घर बना सकें और हमने जमीन दान कर दी।”

शशिधरन नायर खुद भी एक पूर्व वॉलीबॉल खिलाड़ी हैं, लेकिन खेलों के लिए उनका जुनून वो कारण नहीं था, जिसके लिए उन्होंने अनस की मदद करने का फैसला किया था। शशिधरन नायर कहते हैं कि “अनस ने हमारे गाँव का नाम दुनिया में रोशन किया है, वो बेहतर जगह रहने का हक़दार है।”

अनस और उनका परिवार एक कच्चे रास्ते के अंत में एक छोटे से घर में रह रहे थे जहाँ सिर्फ पैदल ही जाय जा सकता था। अनस की मां शीना ने TNM को बताया, “हम अपनी पुराने पैतृक घर पर रह रहे थे, हमारे पास अपना घर नहीं था। दो साल पहले यह ऑफर मिलने पर हम बहुत खुश हुए थे।”

उस हिन्दू दंपत्ति के लिए अनस की माँ कहती हैं कि “मैंने अभी तक शशिधरन नायर या उनकी पत्नी से मुलाकात नहीं की है, लेकिन वे हमारी हमारी दुआओं में हमेशा रहेंगे, हम उनके प्रति हमेशा आभारी रहेंगे।” घर बनाने के लिए दी गयी ज़मीन सड़क संपर्क में है और यह नीलमेल शहर के करीब भी है।

मोहम्मद अनस ने एशियाई खेलों में पुरुषों के 400 मीटर, पुरुषों के 400 मीटर रिले और मिश्रित 400 मीटर रिले में 2018 तीन रजत पदक जीते थे। उन्होंने 2016 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में भाग लिया और 400 मीटर में राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी बनाया। चेक रिपब्लिक में साल 2019 में हुई टबोर एथलेटिक्स मीट में गोल्ड मेडल जीता था। वो वर्तमान में अपने दूसरे ओलंपिक की तैयारी कर रहे हैं।

दोनों ही परिवार कभी भी एक दूसरे से नहीं मिले मगर केरल राज्य के लोगों का अपने राज्य के लोगों के लिए ऐसा जज़्बा हर बार देखा गया है, चाहे बाढ़ हो, कोई त्रासदी हो या बड़ी बीमारी हो, इस राज्य के लोग धर्म, ज़ात, पात की सीमाओं से परे जाकर नि:स्वार्थ एकजुट होकर एक दूसरे की मदद के लिए खड़े हो जाते हैं।