क़ब्रें झूठ नहीं बोलती हैं : कश्मीर में मारे गए ओसैब अल्ताफ का परिवार।

क़ब्रें झूठ नहीं बोलती हैं : कश्मीर में मारे गए ओसैब अल्ताफ का परिवार।
0 0
Read Time4 Minute, 49 Second

कश्मीर में पिछले दो महीनों से, श्रीनगर के बाहरी इलाके में पलपोरा से मराज़ी परिवार अपने 17 वर्षीय बेटे ओसैब अल्ताफ का डेथ सर्टिफिकेट हासिल करने के लिए एक विभाग से दूसरे विभाग में भटक रहा है। परिवार का आरोप है कि 5 अगस्त को सुरक्षा बलों द्वारा पीछा किए जाने के बाद अल्ताफ झेलम में डूब गया था। जबकि सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पेश एक रिपोर्ट में 17 वर्षीय ओसैब अल्ताफ की मौत से इनकार किया है, जिससे उसका परिवार सदमे में चल रहा है।

26 सितंबर को जम्मू-कश्मीर सरकार ने कश्मीर में नाबालिगों को हिरासत में लेने के बारे में मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के एक समूह द्वारा दायर याचिका के जवाब में सुप्रीम कोर्ट में महानिदेशक पुलिस दिलबाग सिंह की एक रिपोर्ट प्रस्तुत की थी।

सरकार ने अपनी रिपोर्ट में अल्ताफ की मौत से इनकार किया है।

The Wire की खबर के अनुसार अल्ताफ की मां सलीमा ने कहा कि शहर के श्री महाराजा हरि सिंह (SMHS) अस्पताल में प्रशासन ने उनके पति को बताया कि डूबने से हुई मौत का प्रमाण पत्र लेने के लिए के लिए FIR की कॉपी होना ज़रूरी है। “पिछले दो महीनों से, हम लगातार पुलिस थानों और एसएमएचएस अस्पताल का दौरा कर रहे हैं, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ,” सलेमा अपने निवास पर कहती हैं। “विडंबना यह है कि पुलिस अधिकारी भी मामला दर्ज करने से इनकार कर रहे हैं।”

हर बार जब परिवार FIR के लिए पुलिस के पास जाता है, तो अधिकार क्षेत्र का मुद्दा उठाया जाता है।

जम्मू-कश्मीर सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट को दी गई रिपोर्ट में कहा गया है, “ओसैब अल्ताफ: घटना (मौत की) को आधारहीन पाया गया क्योंकि इस तरह की मौत की सूचना पुलिस अधिकारियों को नहीं दी गई है। अल्ताफ की हत्या से सरकार के इनकार से परिवार को झटका लगा है। “सरकार इस तरह के झूठ का सहारा कैसे ले सकती है?” “क्या उनका मतलब है कि मेरा बेटा जीवित है? और यदि ऐसा है तो कृपया उन्हें रिहा करने के लिए कहें।”

बाएं ओसैब अल्ताफ की मां सलीमा, दाएं ओसैब अल्ताफ की दादी नूरा।

उसने कहा कि इंटरनेट पर अल्ताफ के अंतिम संस्कार के वीडियो हैं और अखबारों ने उसकी मौत की भी सूचना दी है। दो महीने बाद भी, घर शोक में है। अल्ताफ की दादी नूरा, जो कमरे में चुपचाप बैठी अपनी बहू की बात सुन रही थी, अचानक फूट-फूट कर रोने लगी।

कक्षा 12 के छात्र अल्ताफ को फुटबॉल खेलना पसंद था, उनके भाई सुहैल अहमद ने द वायर को बताया । 5 अगस्त की दोपहर को अल्ताफ अपने दोस्तों के साथ पास के खेल के मैदान में गया था। स्थानीय लोगों ने परिवार को बताया कि सुरक्षा बलों ने झेलम नदी के पार एक पुल पर अल्ताफ और कुछ लड़कों का पीछा किया।

“सभी लड़कों ने हमें बताया गया कि वो तैरने में कामयाब रहे, लेकिन मेरा बेटा अल्ताफ डूब गया क्योंकि उसे नहीं पता था कि कैसे तैरना है, ”सलीमा ने कहा कि वो उम्मीद के साथ अल्ताफ को एसएमएचएस अस्पताल ले गए थे, लेकिन वहां डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया गया था। ओसैब अल्ताफ को अपने पालपोरा घर से लगभग तीन किलोमीटर दूर ईदगाह में ‘शहीद कब्रिस्तान’ में दफन किया गया था।

ओसैब अल्ताफ की मां सलीमा कहती हैं कि “ज़रा क़ब्रिस्तान जाओ और उस क़ब्र को देखो जहाँ मेरा बेटा ओसैब अल्ताफ दफन है, क़ब्रें कभी झूठ नहीं बोलती हैं।”

फोटो साभार : The Wire.

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *