लखनऊ में एक दक्षिणपंथी हिन्दू संगठन के दो भगवाधारियों ने कल बुधवार को सड़क किनारे सूखे मेवे बेचने वाले दो कश्मीरियों के साथ लाठी और थप्पड़ों से बीच सड़क मारपीट की।

न्यूज़ 18 की खबर के अनुसार भगवाधारियों द्वारा कश्मीरी ड्राई फ्रूट विक्रेताओं के साथ मारपीट का ये वीडियो लखनऊ के डालीगंज इलाक़े का है।

इस वीडियो में दो भगवाधारी आदमी सूखे मेवे बेचने वाले दो लोगों को उनके कश्मीरी होने की वजह से बुरी तरह से मार रहे हैं। वहीँ कुछ स्थानीय लोग पीटे जा रहे उन दोनों कश्मीरियों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

जब मारपीट करने वालों से पूछा गया कि वे कश्मीरी पुरुषों की पिटाई क्यों कर रहे हैं ?  तो उन्होंने जवाब दिया कि इसलिए कि वे ‘कश्मीरी’ हैं। बीच बचाव करने वालों को कश्मीरी पुरुषों ने अपना आधार कार्ड भी दिखाया मगर उसके बाद भी भगवाधारियों द्वारा मारपीट बंद नहीं हुई।

सूत्रों के मुताबिक हमलावर एक नए दक्षिणपंथी हिन्दू संगठन के हैं। इससे पहले भी लखनऊ के डालीगंज पुल पर सूखे मेवे बेचने वाले कश्मीरियों को पीटा गया था।

सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद लखनऊ पुलिस ने एक टवीट में कहा कि मामला दर्ज कर लिया गया है और आवश्यक कार्रवाई की जा रही है।

इसके अलावा भी इससे पहले उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में दुकानदारों को विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के कार्यकर्ताओं ने पुलिस की मौजूदगी में एक हस्तशिल्प प्रदर्शनी में अपने स्टॉल बंद करने के लिए मजबूर किया था। VHP कार्यकर्ताओं ने फरीदपुर, बरेली में एक प्रदर्शनी में कश्मीरी स्टालों को जबरन बंद कर दिया था।

पुलवामा आतंकी हमला जिसमें 40 सैनिकों की मौत हो गई थी, के बाद देश के अन्य हिस्सों में भी कश्मीरियों पर हमले बढे थे, बीच में ये कम हो गए थे, मगर लखनऊ की इस घटना ने फिर से साबित कर दिया है कि दक्षिणपंथी हिन्दू संगठन देश के अन्य राज्यों में जीवन यापन करने वाले कश्मीरियों को, कश्मीरी स्टूडेंट्स और व्यापारियों को आतंकी क़रार देकर अपनी कुंठा शांत करने के नफरती एजेंडे पर जुटे हुए हैं।