बीच की सफाई की बात आती है तो देश के पहले ‘चैंपियन ऑफ़ द अर्थ’ अफ़रोज़ शाह को मीडिया क्यों याद नहीं करता ?

बीच की सफाई की बात आती है तो देश के पहले ‘चैंपियन ऑफ़ द अर्थ’ अफ़रोज़ शाह को मीडिया क्यों याद नहीं करता ?
0 0
Read Time4 Minute, 5 Second

कल से मीडिया और सोशल मीडिया प्रधान मंत्री मोदी के महाबलीपुरम बीच की सफाई के फोटो और ख़बरों से भरा पड़ा है, लोग उनकी तारीफों में ज़मीन आसमान एक किये हुए हैं, ये प्रेरणास्पद हो सकता है जब देश के प्रधानमंत्री खुद इस तरह से बीच की साफ़ सफाई का सन्देश देते हैं, मगर जब बात समुद्र तटों की साफ़ सफाई की आती है तो मीडिया एक आदमी का ज़िक्र कभी नहीं करती वो नाम है मुंबई के अफ़रोज़ शाह का।

पेशे से वकील अफ़रोज़ शाह ने दुनिया का सबसे बड़ा बीच सफाई अभियान अक्टूबर 2015 से शुरू किया था, उनके अभियान में लोग जुड़ते गए और उनकी तादाद 70,000 तक पहुँच गयी, उनके अभियान और जज़्बे की वजह से मुम्बईकर उनसे जुड़ते गए, बॉलीवुड कलाकारों ने अफ़रोज़ शाह के साथ श्रमदान कर कचरा उठाया, महानायक अमिताभ बच्चन भी उनके बीच सफाई अभियान में शामिल हुए थे।

अफ़रोज़ शाह 2015 से लगातार वर्सोवा बीच के सफाई में लगे हैं, और उन्होंने वहां से लाखों टन कचरा हटाया है, अफ़रोज़ शाह और उनके साथ जुड़े कई हज़ारों वालंटियर्स ने मुंबई के वर्सोवा बीच की काया पलट कर दी है, अब वर्सोवा समुद्र तट स्वच्छ एवं खूबसूरत समुद्र तट में तब्दील हो गया है। यही वजह है कि उनका नाम दुनिया में समुद्र तट की सफाई और पर्यावरण संरक्षण का पर्याय बन चुका है।

2016 में UN ने मुंबई के वर्सोवा समुद्र तट की सफाई में अफ़रोज़ के काम के उनके सर्वोच्च पर्यावरणीय पुरस्कार, द चैंपियंस ऑफ़ द अर्थ’ पुरस्कार से सम्मानित किया था, ये प्रतिष्ठित पुरस्कार पाने वाले अफ़रोज़ शाह पहले भारतीय थे, विदित रहे कि बाद में 26 सितम्बर 2018 को नरेंद्र मोदी को भी ये पुरस्कार मिला था।

हालाँकि अफ़रोज़ शाह को अपने इस सामाजिक कार्य में परेशानियां भी आईं, उन्हें कुछ गुंडों ने समुद्र तट से कूड़ा उठाने पर धमकी दी थी, इसके बाद उन्होंने टवीट कर अपना दुख जताया था, अफरोज ने 18 नवंबर को टवीट कर कहा, ”कुछ गुंडों ने उनके वॉलन्टियर्स के साथ कूड़ा उठाने पर अभद्रता की, इसके अलावा प्रशासन की सुस्ती और सफाई होने के बाद कूड़े को न उठवाने और गालियां जो हमें मिल रही हैं उसकी वजह से दुनिया का सबसे समुद्र तट सफाई का मूवमेंट खत्म किया गया, मैंने अपना बेहतर देने का प्रयास किया, मैं नाकाम रहा. मुझे माफ करना मेरे समुद्र और मेरे देश।”

बाद में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने उन्हें और उनकी टीम को सुरक्षा का आश्वासन दिया गया था। देश में जब भी समुद्र तट की साफ़ सफाई का ज़िक्र आएगा अफ़रोज़ शाह के विश्व प्रसिद्द वर्सोवा बीच सफाई अभियान का ज़िक्र पहले आएगा। प्रधानमंत्री मोदी खुद अफ़रोज़ शाह के बीच सफाई अभियान के बड़े प्रशंसक रहे हैं और मन की बात में उनके इस विश्व प्रसिद्द अभियान की तारीफ भी कर चुके हैं।

Happy
Happy
100 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *