भारत में मुसलमान होना खतरनाक होता जा रहा था, फिर ‘कोरोना’ आ गया।

0 0
Read Time14 Minute, 42 Second

स्पेशल स्टोरी – वाया : Time

मार्च के अंत में ख़बरों का ब्लास्ट होने के बाद सोशल मीडिया पर अचानक से बहुत सारे इस्लामॉफ़ोबिक हैशटैग शुरू हो गए।

भारतीय अधिकारियों ने COVID-19 के दर्जनों मामलों को तब्लीग़ी जमात से जोड़ दिया जिसने मार्च की शुरुआत में दिल्ली में अपना वार्षिक सम्मेलन आयोजित किया था, और स्वास्थ्य अधिकारी जमातियों के साथ संपर्क रखने वाले किसी भी व्यक्ति को ट्रैक करने के लिए भाग दौड़ रहे थे।

भारत में धार्मिक तनाव पहले से ही मौजूद था, दिल्ली में मरकज़ वाले मुद्दे ने कोरोना वायरस का खौफ और धार्मिक तनाव इन दोनों को एकसाथ जोड़ दिया, इसके चलते और पुलिस और मीडिया ने तब्लीग़ी जमात के लोगों के खिलाफ कई दावे किये, इसके साथ कई फेक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हुए, जो मुसलमानों के लिए पहले से ही खतरनाक माहौल को और खराब करने लगे।

दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान के सहायक प्रोफेसर अमीर अली कहते हैं, “इस्लामोफोबिया को कोरोनोवायरस मुद्दे पर स्थानांतरित कर दिया गया है।”

28 मार्च से, हैशटैग #CoronaJihad के साथ किये गए ट्वीट्स को लगभग 300,000 बार और संभावित रूप से ट्विटर पर 165 मिलियन लोगों द्वारा देखा गया है, जो कि एक मानव मानवाधिकार समूह, इक्विटी टाइम्स द्वारा टाइम के साथ साझा किए गए आंकड़ों के अनुसार है। इक्विटी लैब्स के कार्यकर्ताओं का कहना है कि कई पोस्ट नफरत फैलाने वाले भाषण और कोरोनोवायरस के ट्विटर के नियमों के स्पष्ट उल्लंघन में हैं, लेकिन अभी तक इन्हे हटाया गया है।

टाइम को दिए गए एक बयान में टवीटर का कहना है कि “हम इस अभूतपूर्व वैश्विक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा संकट (कोरोना महामारी) पर मार्गदर्शन करने के लिए अभिव्यक्ति की रक्षा और सेवा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, हम लगातार सतर्कता बरते हुए है।”

हिंदू राष्ट्रवादियों द्वारा आयोजित धार्मिक आयोजन के कुछ हफ़्तों बाद दिल्ली में हुई हिंसा में 36 मुस्लिम मारे गए थे, और इसके बाद भी टवीटर पर नफरती टवीट्स और हैशटैग की बाढ़ आ गई थी। आज इस तरह के नफरती टवीट्स में उछाल यह दर्शाता है कि कोरोनो वायरस भय और भारत में लंबे समय से पैर फैलाता इस्लामोफोबिया एक साथ जुड़ गए हैं।

न्यू, मीडिया, संस्कृति और संचार के प्रोफेसर अर्जुन अप्पादुरई कहते हैं “भारत में मुस्लिम विरोधी भावना की प्रमुख विशेषताओं में से एक यह है कि यह विचार लंबे समय से रहा है कि मुसलमान घिनौने होते हैं, संक्रमण के वाहक होते हैं। तो इस लंबे समय से चली आ रही मुसलमानों की कृत्रिम इमेज और कोरोना वायरस के भय के इस मिश्रण ने नफरत और दुष्प्रचार को और बढ़ावा दे दिया है।”

इस्लामॉफ़ोबिक ताक़तें ऐसे मौके को भुनाने के लिए सक्रिय हो गईं हैं, और मीडिया के साथ साथ सोशल मीडिया इस नफरत का बड़ा अड्डा बन गया है, पिछले दिनों चलाये गए हैशटैग #CoronaJihad के टवीट्स में जमातियों को पुलिस पर थूकने वाला बताया गया, इन टवीट्स में मुस्लिमों को “ऐसे नीच दिमाग वाले लोग” और #CoronaJihad और #TablighiJamatVirus सहित हैशटैग के साथ दिल्ली में मिले तब्लीग़ी जमात का हवाला दिया गया। बाद में ये वीडियो पुराना निकला।

फेसबुक और टवीटर पर शेयर किये गए एक अन्य वीडियो में एक मुस्लिम फल विक्रेता का वीडियो शेयर किया गया जो अपने अंगूठे पर थूक लगाकर फल इधर से उधर रख रहा था, इस वीडियो का सच AltNews ने बताया था।

एक और टवीट जिसे ट्विटर के नियमों का उल्लंघन करने के लिए हटाए जाने से पहले लगभग 2,000 रीट्वीट किए गए थे, जिसमें एक हिंसक व्यक्ति का कार्टून दिखाया गया था जिसमें “कोरोना जिहाद” लेबल था वो एक हिंदू को एक चट्टान से धक्का देने की कोशिश कर रहा था।

समानता लैब्स के कार्यकारी निदेशक थेनमोही सुन्दर राजन कहते हैं “कोरोना जिहाद दक्षिणपंथियों का नया विचार है कि मुसलमान हिंदुओं को निशाना बनाने के लिए कोरोनोवायरस को हथियार बना रहे हैं।” टवीटर के नियमों का उल्लंघन करने के लिए उस टवीट को हटा दिया गया था, लेकिन 15,000 से अधिक फॉलोवर्स के साथ एक ही अकाउंट द्वारा मुसलमानों को कोरोनोवायरस से जोड़ने वाले कई अन्य कार्टून अभी भी 3 अप्रैल तक मौजूद थे।

प्रोफेसर अमीर अली कहते हैं “भारत में, जहां राजनीतिक रूप से प्रमुख हिंदू राष्ट्रवादी भारतीय जनता पार्टी (BJP) के पिछले साल अप्रैल में बहुमत से सत्ता में आने के बाद बड़े पैमाने पर फिर से मुसलमानों पर हमले शुरू किए हैं, भारत में कोरोनो वायरस आने के बाद मुस्लिमों को दूसरे खतरे के रूप में पेश करने का अवसर बना लिया गया है।

प्रोफ़ेसर अली कहते हैं, “बायो ‘जिहाद’ और ‘कोरोना जिहाद’ के बारे में बात कर रहे हैं। मीडिया में न्यूज़ चैनल ‘जिहाद’ की सीरीज प्रसारित कर रहे हैं जो कि बाद में सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। उदाहरण के लिए, जनसंख्या जिहाद हिंदू राष्ट्रवादी संदेश में एक आम बात है, यह दावा करते हुए कि मुसलमान हिंदुओं की तुलना में तेज दर से प्रजनन करके भारत को मुस्लिम राष्ट्र में बदलने की कोशिश कर रहे हैं। लव जिहाद यह विचार है कि मुस्लिम पुरुष हिंदू महिलाओं को इस्लाम में बदलने के लिए रोमांटिक रिश्तों में धोखा दे रहे हैं। ‘कोरोना जिहाद’ अब तक का सबसे खतरनाक है, क्योंकि लोग वास्तव में संक्रमित और मर रहे हैं।”

सोशल मीडिया सालों से हेट स्पीच के खिलाफ संघर्ष कर रही हैं, जिसमें अल्पसंख्यकों के खिलाफ अभिव्यक्ति की आज़ादी की सीमा निर्धारण करने की चुनौती भी है। सोशल मीडिया आने के बाद आई इस पहली महामारी में नफरत का ऑनलाइन वायरस कोरोना वायरस से भी तेजी से फैल रहा है।

हालिया घटनाये ये साबित करती हैं कि सोशल मीडिया प्लेटफार्मों पर नफरत फैलाने वाली पोस्ट्स को हिंसा में आसानी से बदला जा है। रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ बौद्ध राष्ट्रवादियों द्वारा किये गए म्यांमार के 2017 के नरसंहार से पहले फेसबुक पर रोहिंग्या मुसलमानों के खिलाफ हेट स्पीच का ज़ोरदार अभियान चलाया गया था।

समानता लैब्स के सुन्दर राजन का कहना है कि सोशल मीडिया कंपनियां इस मुद्दे को अनदेखा नहीं कर सकती हैं क्योंकि वो अल्पसंख्यकों को टारगेट करने वाले कंटेंट के बारे में जानती भी हैं। वे इसके बारे में जानते हैं। ये इन सोशल मीडिया कम्पनीज पर ही निर्भर है कि चाहे वे इसे वायरल होने की अनुमति दें या नहीं, ये उनकी अपनी जिम्मेदारी है।

ये महामारी वैश्विक है, जब वायरस से संबंधित हेट स्पीच की भविष्यवाणी करने की बात आती है, तो सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों ने अल्पसंख्यकों को प्रताड़ित करने के खिलाफ चेतावनी दी है। क्योंकि COVID-19 की उत्पत्ति वुहान, चीन में हुई थी, इसलिए कुछ लोगों ने जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति भी शामिल हैं – ने इसे “चीनी वायरस” या “वुहान वायरस” कहा था, इस बात से सन्देश जाता है कि ये चीन की दुनिया के खिलाफ कोई साजिश है।

फरवरी में, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इस वायरस को अनाम CoronaVirus का नाम दिया जिसे बाद में आधिकारिक तौर पर COVID-19 के नाम से घोषित कर दिया, एक ऐसा नाम जिसे जानबूझकर चीन का संदर्भ में शामिल नहीं किया गया था। विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेबियस ने उस समय कहा, “एक सांकेतिक नाम होना अन्य नामों के उपयोग को रोकने के लिए गलत या कलंकित करने वाला हो सकता है।”

भारत में लोग और मीडिया इस कोरोना वायरस को उन्माद भड़काने के लिए काम में ले रहे हैं। अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता के लिए अमेरिकी राजदूत सैम ब्राउनबैक ने भारत में #CoronaJihad जैसे हैशटैग चलकर COVID वायरस के लिए धार्मिक अल्पसंख्यकों को दोष देने की बढ़ती घटनाओं के खिलाफ भारत सरकार से कड़े शब्दों में इसे रोकने का आह्वान किया है।

भारत में इस जैसे और भी हेट स्पीच वाले अन्य हैशटैग ट्रेंड कर रहे हैं। उन्होंने गुरुवार को संवाददाताओं से बातचीत में कहा, “सरकारों को वास्तव में इसे रोकना चाहिए, और यह स्पष्ट रूप से कहना चाहिए कि ये लोग कोरोना वायरस का स्रोत नहीं है।” “हम जानते हैं कि इस वायरस की उत्पत्ति कहाँ से हुई है। हम जानते हैं कि यह पूरी दुनिया के लिए एक महामारी है। इसमें अल्पसंख्यकों का कोई दोष नहीं है। लेकिन दुर्भाग्य से हम देख रहे हैं कि दुनिया भर में अलग-अलग जगहों पर इस तरह के दोष का नफरती खेल शुरू हो रहा है।”

भारत में सोशल एक्टिविस्ट्स को डर है कि कोरोना वायरस को मुस्लिमों से जोड़े जाने पर संकट बढ़ सकता है। सार्वजनिक स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से निजामुद्दीन स्थित मरकज़ से जुड़े तब्लीगी जमात के लोगों के खिलाफ नफरती मुहिम शुरू करना प्रतिशोधात्मक होगा।”

गुरुवार को प्रकाशित एक खुले पत्र में कई भारतीय बुद्धिजीवियों ने कहा कि “मरकज़ में मौजूद लोगों की आम लोगों की तरह पहचान कर स्वास्थ्य मानदंडों के अनुसार स्क्रीनिंग कर आइसोलेशन में रखा जाना चाहिए।” कोरोना धार्मिक या राष्ट्रीय मतभेदों में अंतर नहीं करता है। इसका समाधान नफरती विभाजनकारी एजेंडों के माध्यम से नहीं बल्कि वैज्ञानिक प्रयासों और मानव एकजुटता के माध्यम से ही आएगा।”

तब्लीगी जमात विवाद के विवाद को धर्म से जोड़े जाने की दुखद घटना को 3 अप्रैल की उस घटना से और बल मिला जब भारत सरकार ने घोषणा की कि जमात के कुछ लोगों को आइसोलेशन का उल्लंघन करने के लिए भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (NSA) के तहत केस दर्ज किये जाएंगे। तब्लीगी जमात भी अन्य धार्मिक संगठनों की तरह ही एक संगठन है जिसमें देश में अचानक से हुए लॉकडाउन की घोषणा होने के बाद दो हज़ार के लगभग लोग फंस गए थे, मगर देश में सिर्फ इसी तब्लीगी जमात की चर्चा कर बहुत अधिक ध्यान आकर्षित किया गया।

अप्पादुरई ने तब्लीगी जमात के बारे में कहा “वे भारत और दुनिया भर में किसी भी अन्य लोगों से अलग नहीं हैं, जिन्होंने अच्छे कामों के लिए खुद को समर्पित किया है, लेकिन निश्चित रूप से भारत कोरोनो वायरस के अलावा मुसलमानों के लिए एक बहुत ही खतरनाक जगह है।”

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *