हाल ही में भारतीय जनता पार्टी शासित राज्य उत्तर प्रदेश ने लव जिहाद कानून पारित किया। यह कानून धर्मांतरण विरोधी कानून के रूप में जाना और पहचाना जाता है, लेकिन यह नाज़ी पार्टी के शासन के दौरान जर्मनी में पारित नूरेम्बर्ग कानूनों का हिंदुत्व संस्करण है। यूपी में इस कानून के पारित होने के बाद, अन्य भाजपा शासित राज्य भी उसी कानून को लाने के लिए मचल रहे हैं।

1935 में, जर्मन चांसलर एडोल्फ हिटलर ने आर्यन जाति के लोगों और यहूदियों के बीच शादी को रोकने के लिए नूरेम्बर्ग कानून पारित किया था। नाजी जर्मनी में एक यहूदी के लिए जर्मन से शादी करना गैरकानूनी था। आज नरेन्द्र मोदी की हिंदू राष्ट्रवादी पार्टी भाजपा उसी नाजी एजेंडे का पालन कर रही है। भाजपा सरकार ने मुसलमानों और हिंदुओं के बीच अंतरजातीय विवाह को रोकने के लिए यह कानून पारित किया है।

पिछले कुछ वर्षों से हिंदुत्ववादी नेता “लव जिहाद” के एक फर्जी षडयंत्र सिद्धांत का प्रचार कर रहे हैं कि मुस्लिम पुरुष हिंदू महिलाओं को प्यार में फंसाते हैं और फिर उन्हें शादी के लिए उनका धर्म परिवर्तित करते हैं, और आखिरकार कुछ सालों बाद छोड़ देते हैं। उन्होंने ये भी प्रचार किया कि मुसलमान अपनी जनसंख्या बढ़ाने के लिए “लव जिहाद” कर रहे हैं, ताकि वे हिंदुओं को पछाड़ सकें और भारत को एक इस्लामी राष्ट्र में बदल सकें।

यह प्रोपेगंडा जो व्हाट्सएप, फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया प्लेटफार्मों से शुरू किया गया था, ने टीवी और समाचार पत्रों के ज़रिये आगे अपना रास्ता बनाया। मुख्य धारा के संभ्रांत भारतीय मीडिया ने इस मुद्दे पर बहस शुरू की और इस प्रोपेगण्डे को हिंदुत्व के पक्ष में आगे बढ़ाया। समय के साथ, फर्जी ‘लव जिहाद’ भारत में एक चुनावी मुद्दा बन गया क्योंकि कई भाजपा नेताओं ने चुनावी रैलियों के दौरान इस प्रोपेगण्डे को चुनावी मुद्दा बनाना को शुरू कर दिया।

जैसे ही ‘लव जिहाद ’मुद्दा समाज में एक चर्चा का विषय बना, सत्ताधारी दल ने भाजपा शासित राज्यों में एक विधेयक पारित कर दिया। पर्यवेक्षकों का कहना है कि उनके बिल का इस्तेमाल उन मुस्लिम पुरुषों को निशाना बनाने के लिए किया जाएगा जो हिंदू महिलाओं से शादी करते हैं। विधेयक भारत में भीड़तंत्र को बढ़ावा देगा। बिल ने एक व्यक्ति के लिए किसी अन्य व्यक्ति को जबरदस्ती, गलत बयानी, धोखाधड़ी आदि से धर्म बदलना और शादी करना एक अपराध बना दिया है, हालांकि, जमीनी हकीकत इसके विपरीत है।

क्योंकि डर यह है कि इस बिल का उपयोग केवल उन मामलों में किया जाएगा जहां एक मुस्लिम व्यक्ति एक हिंदू महिला से शादी करता है। यदि हिंदू पुरुष का विवाह मुस्लिम महिला से होता है, तो कानून लागू करने वाली एजेंसियां ​​हिंदू पुरुष के खिलाफ इस कानून का उपयोग नहीं करेंगी।

हाल ही में यूपी के मुरादाबाद में एक मुस्लिम व्यक्ति को इसलिए गिरफ्तार कर लिया गया क्योंकि उसने एक हिंदू महिला से शादी की थी। हिंदु संगठन बजरंग दल के कुछ सदस्यों ने पिंकी नाम की एक हिंदू लड़की को उसकी इच्छा के विरुद्ध पुलिस थाने में लाया गया। पिंकी कहती रही कि किसी ने उसे मुस्लिम व्यक्ति से शादी करने के लिए मजबूर नहीं किया और उसने अपनी मर्जी से शादी की और वह एक वयस्क है, लेकिन बजरंग दल के सदस्यों ने उसकी बात नहीं मानी। उधर पुलिस ने उसके पति को गिरफ्तार कर लिया और उसे भी हिरासत में लिया गया।

अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय के बीच व्यापक भय यह है कि अधिक मुसलमानों को जेल में डालने के लिए ही ये कानून बनाया गया है। हिंदुत्व संगठन ऐसे किसी भी अंतरजातीय विवाह को लक्षित करेगा जहां दूल्हा मुस्लिम है और दुल्हन हिंदू है। कानून यह सुनिश्चित करेगा कि पुलिस ऐसे मामलों में भी हस्तक्षेप करे, भले ही दोनों पक्षों ने उस शादी के लिए सहमति दी हो।

अंतरजातीय विवाह में, भले ही जोड़े वयस्क हों, उनके परिवारों ने शादी की सहमति दे दी, लेकिन अगर हिंदु संगठनों के लोग इस कानून का उपयोग करते हुए, पुलिस को सूचित करते हैं और ‘लव जिहाद’ का आरोप लगाते हैं, तो पुलिस के पास शादी रोकने और गिरफ्तारी करने की शक्ति है।

संक्षेप में, कानून व्यक्तियों की व्यक्तिगत स्वतंत्रता पर हमला है, जो विशेष रूप से मुस्लिम पुरुषों को टारगेट करने के लिए बनाया गया है।

– मोहम्मद आसिफ ख़ान-
सोशल एक्टिविस्ट : @imMAK02

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *