प. बंगाल की मुख़्यमंत्री बनर्जी ने बुधवार को सवालों की झड़ी लगाते हुए अमित शाह को याद दिलाया कि वो देश के केंद्रीय गृह मंत्री हैं उनका काम देश को आग में झोंकने का नहीं बल्कि शांति स्थापित रखने का है।

The Telegraph India के अनुसार ममता बनर्जी ने अमित शाह पर हमला करते हुआ कहा कि “मुझे शर्म आती है (शाह की टिप्पणी पर)। मैं भारत सरकार से, केंद्रीय गृह मंत्री से अपील करना चाहूंगी। तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता ने कहा कि “माननीय कृपया थोड़ा याद रखें कि आप केंद्रीय गृह मंत्री हैं।”

अपने कुछ सवालों के साथ डोरिना क्रॉसिंग पर हज़ारों लोगों को सम्बोधित करते हुए ममता बनर्जी ने अमित शाह पर हमला बोलते हुए कहा कि “जब देश के कई हिस्सों में CAA – NRC के विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं, तो आप ‘होगा ही होगा’ क्यों कह रहे हैं? असम…, त्रिपुरा, दिल्ली, पंजाब, उत्तर प्रदेश, राजस्थान…? क्या हुआ या क्या होगा ?

(मंगलवार को अमित शाह ने संशोधित नागरिकता कानून और NRC पर पुनर्विचार करने का बयान दिया था।)

मैं अभी भी यह नहीं कह रही हूं कि आपने यह कहा है, मैं आपसे इस बारे में स्पष्टीकरण मांग रही हूं, क्या आपने वास्तव में ये बातें कही हैं ? इस देश का नागरिक होने के नए मेरे पास आपसे ये पूछने का अधिकार है, जब देश के गृह मंत्री खुले तौर पर सार्वजनिक रूप से कहते हैं, कि (NRC में) आधार नहीं माना जायेगा …।

फिर आपने आधार के नाम पर 6,000 करोड़ रुपये क्यों खर्च किए? अगर आधार मान्य नहीं होगा, (NRC में) तो आपने लोगों को फोन से, बैंकों से, पासपोर्ट तक क्यों आधार से लिंक कराया … अगर आधार यहाँ मान्य नहीं होगा, तो आपने लोगों को क्यों परेशान किया ?

– Pan Card नहीं चलेगा (NRC में) तो फिर आप इनकम टैक्स क्यों ले रहे हैं ?

– वोटर कार्ड भी मान्य नहीं होगा, तब आप केंद्रीय गृह मंत्री कैसे बने ? क्योंकि मतदाता सूची में मौजूद लोगों ने वोट किया, इसलिए आपकी सरकार मौजूद है, मेरी भी। अब आप कहते हैं कि (NRC में) यह (Voter Card) नहीं चलेगा ?

– मैं सीधे तौर पर कहूँ तो Voter List, आधार, पैन, ये मान्य नहीं होंगे तो फिया क्या करेंगे ? बीजेपी मन्त्र ? उन्होंने एक धुलाई वाशिंग मशीन बनाई। अगर आप भाजपा में हैं, तो आप धुले हुए हैं। यदि नहीं, तो सभी चोर, सभी देशद्रोही हैं और हम सब घुसपैठिए हैं। तुमने क्या कहा था? किसी की नागरिकता नहीं जाएगी ? तुम सोचते कुछ और हो और कहते कुछ और हो।

– क्या आप पूरे देश को कैद कर लेंगे ? आप कितनी जेलें बनाएंगे ? कितने डिटेंशन सेंटर्स बनाएंगे ?

– आपके लोग कह रहे हैं कि गोली मार दो ? यह क्या है ? क्या लोकतंत्र में ऐसा होता है? (एक केंद्रीय मंत्री ने मंगलवार को ये बयान दिया था कि जो भी प्रदर्शनकारी सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हुए नज़र आये उन्हें गोली मार दी जानी चाहिए।)

– अगर आपका मिशन ‘सबका साथ, सबका विकास’ था तो ये केवल कुछ लोगों के लिए ही क्यों ? आपने सबका सत्यानाश कर दिया।

– क्या आप एक चटटान हो? (शाह ने कहा था कि वह संशोधित नागरिकता कानून (CAA) पर एक चट्टान की तरह अडिग हैं।) तो फिर, हम वो चूहे हैं जो चट्टान के आधार को तब तक कुतरते रहेंगे, जब तक कि यह नीचे नहीं गिरती।