पी.एम. मोदी के टवीट के जवाब में रेणुका शहाणे ने टवीट कर कहा “रियल ‘टुकडे टुकड़े गैंग भाजपा का आईटी सेल है।”

प्रसिद्द अभिनेत्री रेणुका शहाणे देश के ज्वलंत मुद्दों पर सोशल मीडिया में अपनी बेबाक राय व्यक्त करने के लिए जानी जाती हैं, कल रेणुका शहाणे ने देश में नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) के मुद्दे पर हो रहे विरोध प्रदर्शनों पर प्रधानमंत्री मोदी के एक टवीट के जवाब में तीखी प्रतिक्रिया दी है।

Mumbai Mirror की खबर के अनुसार पी.एम. मोदी ने देश में चल रहे CAA विरोध प्रदर्शनों के चलते टवीट कर जनता से शांति और भाईचारा बनाये रखने और झूठ तथा अफवाहें फ़ैलाने वालों से दूर रहने की अपील की थी।

पी.एम. मोदी के इस मुद्दे पर किये गए टवीट्स की श्रंखला के जवाब में रेणुका शहाणे ने टवीट कर कहा कि “सर, फिर तो आप लोगों से आपके आईटी सेल के सभी टवीटर हैंडल्स से दूर रहने को कहिये, यही लोग सबसे ज़्यादा अफवाहें, झूठ, दुष्प्रचार और भाईचारे के खिलाफ काम करते हैं। असली ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ आपका आईटी सेल है सर। कृपया इन्हे नफरत फ़ैलाने से रोकिये। 🙏🏽🙏🏽

रेणुका शहाणे के इस टवीट को 13,421 से अधिक बार रीट्वीट किया गया और 35,990 यूज़र्स द्वारा लाइक किया गया।

जामिया मिलिया इस्लामिया केम्पस में कल हुई हिंसा और पुलिस कार्रवाही के चलते बहुत हंगामा हुआ था, हिंसा और लाठीचार्ज के कई वीडियोज़ और फोटोज़ सोशल मीडिया पर शेयर हुए, खुद जामिया की वाईस चांसलर ने पुलिस पर सवाल उठाते हुए कहा था कि पुलिस किस अधिकार से जामिया केम्पस में दाखिल हुई और लाइब्रेरी में बैठे छात्र-छात्राओं पर आंसू गैस के गोले दागे गए।

CAA के विरोध में चल रहे विरोध प्रदर्शनों पर जहाँ कई सेलेब्रिटीज़ और बॉलीवुड ने चुप्पी साध रखी है वहीँ दूसरी ओर सोशल मीडिया पर एक्टिव प्रमुख हस्तियां CAA के विरोध में चल रहे विरोध प्रदर्शनों के समर्थन में खुलकर आगे आ गयीं हैं, मंगलवार को परिणीति चोपड़ा ने भी ट्विटर का सहारा लिया और छात्रों पर हमले को एक बर्बर कृत्य करार दिया।

परिणीति चोपड़ा ने टवीट किया कि “जब जब देश के नागरिक अपने विचार व्यक्त करेंगे तब तब अगर हमेशा यही होता रहना है तो CAB को भूल जाइए। हमें तो बल्कि एक बिल पास करना चाहिए और आइंदा देश को लोकतंत्र कहना बंद कर देना चाहिए। अपने मन की बात कहने के लिए निर्दोष लोगों की पिटाई ? BARBARIC.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close