नार्वे के क्रिश्चियनसेंड में पिछले हफ्ते दक्षिणपंथी संगठन SIAN (Stop the Islamisation of Norway) के मुस्लिम विरोधी प्रदर्शन में स्थानीय पुलिस अधिकारियों की चेतावनी के बावजूद संगठन के ग्रुप लीडर लार्स थोर्सन द्वारा क़ुरआन को जलाने की कोशिश को रोकने वाले मुस्लिम युवक इलियास की सोशल मीडिया पर एक हीरो की तरह प्रशंसा की जा रही है। हालाँकि उस युवक के नाम की आधिकारिक पुष्टि अभी नहीं हुई है।

Global Village Space के अनुसार सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो में SIAN के ग्रुप लीडर लार्स थोर्सन क़ुरआन की एक प्रति जलाने की कोशिश करता नज़र आ रहा है, तभी बेरिकेडिंग से कूद कर इलियास नामक एक युवक लार्स थोर्सन पर टूट पड़ता है और लातों घूंसों से उसे पीटने लगता है।

इस वीडियो और घटना के वायरल होते ही नेटिज़ेंस ने सोशल मीडिया पर इस घटना की निंदा और इलियास के इस जज़्बे की प्रशंसा के हैशटैग चल पड़े और साथ ही यूरोप और दुनिया भर में इस्लामोफोबिया के बढ़ने पर भी चिंता ज़ाहिर की।

ट्विटर पर #ilyas_Hero_of_Muslim_Ummah, #Norway, #Defender_of_Quran, #TheGloriousQuran ट्रेंड करने लगे। लोग इलियास को Defender of Quran (क़ुरआन की हिफाज़त करने वाला) के नाम से पुकारने लगे।


पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद आफरीदी ने भी इस घटना की निंदा करते हुए ट्वीट किया।

SIAN के ग्रुप लीडर लार्स थोर्सन को मुस्लिम विरोधी गतिविधियों और हेट क्राइम्स के चलते कुछ दिन पहले ही 30 दिन की जेल और भारी जुर्माना लगाया था। SIAN (Stop the Islamisation of Norway) की स्थापना 2008 में हुई थी, ये दक्षिणपंथी संगठन नार्वे में मुस्लिम शरणार्थियों के आगमन खिलाफ सक्रीय था, और अपनी मुस्लिम विरोधी गतिविधियों के लिए कुख्यात था।

इस घटना के बाद नार्वे पुलिस ने लार थोर्सन और इलियास दोनों को गिरफ्तार कर लिया है, वहीँ इस घटना की दुनिया भर से निंदा हो रही है, पाकिस्तान और तुर्की ने नार्वे सरकार से अपनी नाराज़गी जताते हुए दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाही करने का आग्रह किया है।