रिलायंस ग्रुप के चेयरमैन और कभी दुनिया के अमीरों की लिस्ट में शामिल रहे अनिल अंबानी ने चीन के तीन बैंकों के साथ ऋण मामलों के केस की सुनवाई में ब्रिटेन की एक अदालत में कहा कि उन्होंने अपने केस की फीस के लिए सारे आभूषण बेच दिए हैं और उनके खर्च पत्नी और परिवार वाले उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनवरी से जून 2020 के बीच उनको घर की सभी ज्वेलरी बेचना पड़ी जिसके कुल 9.9 करोड़ रुपये मिले थे।

Times of India की खबर के अनुसार अनिल अम्बानी वीडियो लिंक के जरिए ब्रिटेन की अदालत में पेश हुए थे, उन्होंने कहा कि उनकी आमदनी का कोई दूसरा जरिया नहीं है, वो भव्य जीवनशैली नहीं जीते हैं बल्कि एक साधारण जीवन जी रहे हैं और सिर्फ एक कार इस्तेमाल करते हैं। उन्होंने अदालत को बताया कि उनका बैंक बैलेंस 40.2 लाख रुपये से घटकर 20.8 लाख रुपये हो गया।

तीन चीनी बैंकों – इंडस्ट्रीयल एंड कमर्शियल बैंक ऑफ चाइना लिमिटेड मुंबई ब्रांच, चाइना डेवलपमेंट और एग्जिम बैंक ऑफ चाइना ने अपनी व्यक्तिगत गारंटी पर 2012 में अनिल अंबानी की रिलायंस कम्युनिकेशंस को $ 925 मिलियन का ऋण दिया था।

जब अनिल अंबानी उक्त राशि का भुगतान करने में विफल रहे, तो ब्रिटेन की अदालत ने सभी गवाहों और उनकी व्यक्तिगत संपत्ति के बारे में जानकारी मांगी। उनके वास्तविक खर्चों को जानने के लिए, अदालत ने उनके दो साल के क्रेडिट कार्ड विवरणों के बारे में विवरण भी मांगा था।

मई में ब्रिटेन की अदालत ने अंबानी को 21 दिनों में ऋण समझौते के तहत तीन चीनी बैंकों को लगभग $ 717 मिलियन (5,447 करोड़ रुपये) का भुगतान करने का निर्देश दिया था, लेकिन अनिल अंबानी अदालत का यह आदेश पूरा करने में असमर्थ रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *